जो समय की कीमत समझेगा, समय भी उसकी कद्र करेगा: पंडित शास्त्री

छत्तीसगढ़ धर्म


बिलासपुर। पंडित दीनदयाल कॉलोनी मंगला में आयोजित श्रीमद् भागवत ज्ञानयज्ञ सप्ताह में परीक्षित मोक्ष, भगवान के स्वधाम गमन का वर्णन किया। अंतिम दिन मंत्रोच्चार के साथ हवन, पूर्णाहुति हुई। व्यास पंडित रजनीकांत शास्त्री ने संगीतमय कथा का वर्णन करते हुए श्रद्धालुओं को आनंदित किया। कथा में गोवर्धन महिमा, बाल लीलाओं, इंद्रदेव का मानमर्दन करते हुए गोवर्धनधारण कर समस्त ब्रजवासियों की रक्षा का विस्तारपूर्वक वर्णन किया। कृष्ण और रुखमणी विवाह, सुदामा प्रसंग से कथा विस्तार करते हुए परीक्षित मोक्ष और भगवान के स्वधाम गमन का वर्णन किया। इस अवसर पर कथा व्यास पंडित रजनीकांत शास्त्री ने कहा कि इस संसार में जितना भी धन कमा लो, मरने के बाद सब यहीं छोड़कर जाना है, लेकिन मरने के बाद मनुष्य अपने साथ सिर्फ कर्म और नाम ही लेकर जाता है। जीवन मिला है तो अच्छे कर्म करें और कर्म को ही दुनिया याद रखती है। चाहे कितने भी वर्ष बीत जाएं। उन्होंने जीवन में समय पर प्रकाश डालते हुए कहा कि जीवन में भगवान ने सबको समान समय दिया है। अगर मान समय की कीमत समझेगा तो समय भी मानव की कद्र करेगा। इसलिए अपना जीवन का महत्वपूर्ण समय मानव समाज और ईश्वर की सेवा में लगाएं। दीनदयाल कालोनी में आयोजित श्रीमद् भागवत कथा का विगत गुरुवार को गीता पाठ, तुलसी वर्षा, हवन ब्राम्हण भोज एवं पसाद वितरण के साथा कथा का विश्राम हुआ। यहां अशोक अग्रवाल, बैजनाथ चंद्राकर, हर्षिता पांडे, विधायक रजनीश सिंह पहुंच कर कथा का श्रवण किया। आयोजन में समिति के अध्यक्ष बलीराम पांडे, संरक्षक बालमुकुंद तिवारी, मनमोहन तिवारी, राधेश्याम शुक्ला, मधुसूदन शुक्ला, लक्ष्मीकांत पांडे, ज्ञानेन्द्र दीवान, ईश्वर प्रसाद वस्त्रकार, आदर्श वर्मा, टीडी वर्मा, मुख्य यजमान में ईश्वरीलाल चंद्राकर एवं श्रीमती सुशीला चंद्राकर समस्त कॉलोनीवासियों का सहयोग रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *