दृष्टिबाधित बच्चों सहित गुनरस पिया फाउंडेशन के सदस्यों की प्रस्तुति, शताब्दी सभा मे

छत्तीसगढ़

रायपुर। राजधानी रायपुर में गुनरस पिया फाउंडेशन ने सोमवार 16 दिसंबर को 100 वीं सभा एक निजी होटल में आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम के संचालक श्री रामानुज पुरोहित , सरोज पुरोहित थे। कार्यक्रम के विशेष अतिथियों में विभूति दत्त झा, शीलादेवी झा थे। संयोजिका प्रज्ञा त्रिवेदी ने मासिक सभाओं की सभी 100 कड़ियों का ज़िक्र किया। इस अवसर पर,सिंचल सोलंकी राग बिलासखानी तोड़ी छोटा ख्याल।
पवन चावला ग़ज़ल प्रस्तुत की।
संचित सोनी राग भैरव छोटा ख्याल
जे रमणी ने भजन कोई कहियो रे।
प्रज्योत और संजय भजन रुप अरूपी,
साई पल्लवी कथक नृत्य ठुमरी पर,
दृष्टिबाधित बच्चों के ग्रुप ने – समूह गीत देश हमारा धरती अपनी और अंत मे शान्ति गीत-सुख शान्ति मय संसार हो।
दृष्टिबाधित बालिका का एक सोलो गीत-आली म्हाने लागे वृन्दावन नीको।
रामकृष्ण पटेल ग़ज़ल क़रीब मौत खड़ी है ज़रा ठहर जाओ
दीपक व्यास भजन हे गोविंद हे गोपाल
प्रज्ञा त्रिवेदी ग़ज़ल मैं तुम्हारी ही ग़ज़ल हूँ
रचना चांडक और बसन्त सोनी , इस तरह देखिये।
कावेरी व्यास गीत इस तरह मुझसे छेड़छाड़ न कर
आलोक त्रिवेदी ग़ज़ल लोग जो चाहते सज़ा देते
निर्झर चांडक हमको अपनी पुर अफ्शानी
श्रीवल्ली राग शुद्ध कल्याण रघुपति राजीव नयन
अतीक उर्रहमान ग़ज़ल गर्मी ए हसरत ए नादान
डॉ विवेक अवस्थी ग़ज़ल दिल ने किया था याद
पुष्पलता रेड्डी ने राग मालकौंस में प्रस्तुति दी।
हॉर्मोनियम पर दीपकव्यास , सुरेंद्र साहू,तबले पर ओम प्रकाश भोई, गौरव कुमार, गिटार पर अतीक उररहमान रहे।
इस अवसर पर संस्था के अशोक त्रिवेदी, दीपा व्यास, राजेश चांडक, रमेश पालकर, मनीषा त्रिवेदी सहित अन्य सदस्य उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन वर्षा ने किया । व्यवस्थापक संकेत ठाकुर व शुभ्रा ठाकुर थे। फाउंडेशन के निदेशक दीपकव्यास ने बताया कि ये हमारी शताब्दी बैठक है, आज तक की बैठकों में अनगिनत कलाकारों ने अपनी प्रस्तुतियां दीं, आज संस्था उस मुकाम पर है कि कलाकार बार ,बार इस मंच पर गाने,बजाने को सौभाग्य मानते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *