लोकगीतों की प्रस्तुति में राजनांदगांव और बालोद के कलाकारों को पहला स्थान

छत्तीसगढ़


रायपुर। राज्य स्तरीय युवा महोत्सव में लोकगीतों की प्रस्तुति में राजनांदगांव और बालोद के कलाकारों ने प्रथम स्थान हासिल किया। 15 वर्ष से 40 वर्ष आयु वर्ग में 25 जिलों के दलों ने अपनी प्रस्तुति दी। इसमें राजनांदगांव जिले ने प्रथम, गरियाबंद ने द्वितीय और रायपुर जिले ने तृतीय स्थान हासिल किया। 40 वर्ष से अधिक आयु वर्ग में 15 जिलों के कलाकारों ने लोकगीत प्रस्तुत किए। इस वर्ग में बालोद के कलाकारों को पहला, कोरबा को दूसरा और सरगुजा को तीसरा स्थान मिला।
हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत में किशन और कन्हैया रहे प्रथम: राज्य स्तरीय युवा महोत्सव के अंतर्गत पं. दीनदयाल उपाध्याय ऑडिटोरियम में आयोजित हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत स्पर्धा में राजनांदगांव जिले के किशन कुमार और कोरबा के कन्हैया लाल वैष्णव अपने-अपने वर्ग में प्रथम स्थान पर रहे। कर्नाटक शास्त्रीय संगीत में 15 से 40 वर्ष आयु वर्ग में बिलासपुर की सुश्री व्ही.सी.आर.एल. वैष्णवी प्रथम स्थान पर रहीं। दो वर्गों में आयोजित हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत में 15 से 40 वर्ष आयु वर्ग में राजनांदगांव जिले के किशन प्रकाश ने प्रथम, सरगुजा के कुंदन मिश्रा ने द्वितीय और बालोद जिले की सुश्री बरखा गौर ने तृतीय स्थान हासिल किया। वहीं 40 वर्ष से अधिक आयु वर्ग में कोरबा के कन्हैया लाल वैष्णव पहले, कोरिया के नंदलाल दूसरे तथा कबीरधाम जिले जलेश चंद्रवंशी तीसरे स्थान पर रहे।
तबला वादन में देवेश और मोरजध्वज प्रथम: राज्य स्तरीय युवा महोत्सव में तबला वादन में 15 वर्ष से 40 वर्ष आयु वर्ग में राजनांदगांव के देवेश कुमार कंवर ने प्रथम स्थान हासिल किया। वहीं 40 वर्ष से अधिक आयु वर्ग में कोरबा के मोरध्वज वैष्णव ने पहला स्थान प्राप्त किया। 15 वर्ष से 40 वर्ष आयु वर्ग में सरगुजा के सावंत कुमार केंवट को द्वितीय एवं बिलासपुर के कमलेश चन्द्राकर को तृतीय स्थान मिला। इस वर्ग में कुल 21 कलाकारों ने भाग लिया था। 40 वर्ष से अधिक आयु वर्ग में जांजगीर-चांपा के कमलेश्वर चौहान दूसरे और धमतरी के रविकांत गजेन्द्र तीसरे स्थान पर रहे। इसमें 10 कलाकारों ने अपनी प्रतिभागिता दी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *