मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान: 13 लाख से अधिक लोगों तक पहुंचेगा स्वास्थ्य अमला

छत्तीसगढ़


जगदलपुर। बस्तर संभाग में मलेरिया के प्रभावी रोकथाम के लिए मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान बुधवार 15 जनवरी से शुरू हो रहा है। इस अभियान के लिए पूरे संभाग में 1320 दलों का गठन किया गया है। प्रत्येक टीम में 4 सदस्य हैं । इस तरह स्वास्थ्य विभाग के 5 हजार 280 कर्मचारी संभाग के 13 लाख से अधिक आबादी को कव्हर करेंगे। यह अभियान 14 फरवरी 2020 तक चलेगा। इस अभियान के लिए संभाग के सभी जिलों में तैयारी पूरी कर ली गई है। बस्तर जिले में 354 दलों का गठन किया गया है, जो दो लाख 44 हजार लोगों के खून की जांच करेंगे। इसके अलावा 6 मोबाइल टीम का गठन भी किया गया है। मोबाइल टीम मलेरिया प्रभावित क्षेत्र के हाट बाजारों में छूटे हुए लोगों की मलेरिया की जांच करेंगे । आश्रम, छात्रावासों और बटालियन के कैंपों में भी स्वास्थ्य अमला जाकर मलेरिया की जांच करेंगे। अभियान के दौरान दल के सदस्यों द्वारा परिवार की प्रत्येक व्यक्ति के खून की जांच करेंगे। इसके अलावा मलेरिया और डेंगू से बचाव के लिए मलेरिया रोधी दवा का छि?काव करेंगे। घर के आस-पास स्वच्छता बनाए रखने और रोज मच्छरदानी लगाकर सोने के लिए लोगों को जागरूक किया जाएगा। इस पूरे अभियान में ग्रामीणों की सहभागिता भी सुनिश्चित की जाएगी। घरों के आसपास गंदा पानी जमा होने पर वहां जला हुआ आईल अथवा मिट्टी का तेल छिडक़ने की समझाईश दी जाएगी। इसके साथ ही कूलर, पुराने टायर, मिट्टी के टूटे-फूटे बर्तनों में पानी इक_ा नहीं होने देने के लिए भी लोगों को जागरूक किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि बस्तर संभाग में मलेरिया से सबसे ज्यादा मौतें होती हैं। इसीलिए इस अभियान की शुरुआत बस्तर संभाग से की जा रही है। राज्य में मलेरिया के कुल प्रकरणों में 73.34 प्रतिशत प्रकरण बस्तर संभाग में पाया गया है। वर्ष 2018 के अनुसार मलेरिया का राष्ट्रीय वार्षिक सूचकांक एपीआई 0.30 है, वहीं छत्तीसगढ़ में यह 2.63 है। समान्यत: एनीमिया मलेरिया से बार बार पीडि़त होने के कारण होता है। यदि गर्भवती महिला को मलेरिया हो जाता है, तो कम वजन के बच्चे का जन्म होने की संभावना होती है, यही बाद में कुपोषण में परिवर्तित हो जाता है। इसलिए मलेरिया के समूल उन्मूलन से कुपोषण और एनीमिया दोनों के रोकथाम में मदद मिल सकेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *