निजी सम्पत्ति सीनियर सिटीजन वीणाजी का मकान डीडीनगर थाना भवन पुलिसिया कब्जे से छसपा अध्यक्ष किसान नेता अनिल दुबे ने कराया मुक्त

छत्तीसगढ़


रायपुर। राज्य आन्दोलनकारी, छसपा एवं किसान नेता अनिल दुबे को श्रीमती वीणा जी रायपुर निवासी द्वारा लिखित आवेदन देकर गुहार लगाई थी कि पुलिस द्वारा 15 वर्षों से उनके मकान को कब्जा कर डीडी नगर थाना भवन को बिना किराया, बिना किसी अनुबंध के कब्जा कर लिया गया है। छसपा एवं किसान नेता अनिल दुबे ने लगातार चार वर्ष तक भवन रिक्त कराने एवं किराया देने के लिए छ.ग. शासन, डी.जी.पी., पुलिस अधीक्षक रायपुर को लगातार पत्राचार एवं कानूनी कार्यवाही के लिए पत्र लिखकर माननीय उच्च न्यायालय जाने की अंतिम चेतावनी दी। जिससे अपराध बोध मानकर पुलिस अधीक्षक रायपुर ने थाना भवन रातोंरात खाली कर भाग खड़े हुए। थाना भवन खाली कराने के लिए सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 सूचना के चलते खाली हुआ। सूचना का अधिकार हर नागरिक का अधिकार है। राज्य सूचना आयुक्त द्वारा पुलिस अधीक्षक, जनसूचना अधिकारी रायपुर को दिए गए आदेश के चलते शपथमय, स्टाम्प पर राज्य आन्दोलनकारी छसपा किसान नेता अनिल दुबे को शपथमय जानकारी पुलिस ने दी है। राज्य आन्दोलनकारी ने सीनियर सिटीजन श्रीमती वीणा जी को 15 वर्ष का भवन किराया पुलिस अधीक्षक रायपुर से देने का गुहार लगाया है। नही देने पर माननीय उच्च न्यायालय जाने का भी निर्णय श्रीमती वीणा जी के साथ लेंगे। छत्तीसगढ़ एवं राजधानी में यह पहला अवसर है वर्दीधारियों से राज्य आंदोलनकारियों ने संवैधानिक लड़ाई लडक़र भवन का कब्जा मुक्त किया है। श्रीमती वीणा जी ने राज्य आन्दोलनकारी के द्वारा कब्जा मुक्त कराने पर उन्हे साधुवाद दिया है। राज्य आन्दोलनकारी छसपा नेता अनिल दुबे ने इस पर कहा है कि छत्तीसगढ़ के किसी भी नागरिक का पुलिस वर्दी के डर से सम्पत्ति का नुकसान पहुंचाया जा रहा है तो उसकी शिकायत छत्तीसगढ़ी भवन हांडीपारा में की जा सकती है। साथ ही श्री दुबे ने सभी नागरिकों से आव्हान किया है कि सूचना का अधिकार का उपयोग करें जिससे उनका अधिकार सुरक्षित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *