औद्योगिक क्षेत्रों में फैलता जा रहा प्रदूषण, निवारण कुछ भी नहीं…

छत्तीसगढ़

By।कमलेश पटेल

भाटापारा। औद्योगिक क्षेत्रों में इजाफा होने के कारण प्रदूषण बढ़ते जा रहा है वही इसका निवारण कुछ भी नहीं है। इन सब से सुरक्षा के लिए स्वयं को बचाव करना जरूरी है । भाटापारा मिलों के प्रदूषण से हलाकान नगर के लोगों को राहत दिलाने वाला कोई जनप्रतिनिधि अब शायद नगर में नहीं बचा है। यही कारण है कि लोग इस मुसीबत से बचने की उम्मीद छोड़ चुके हैं। लोगों का साफ तौर पर कहना है कि निजी स्वार्थ जनहित से बड़ा हो गया है और ऐसे लोगों से उन्हें कोई उम्मीद नहीं बची है।

लोगों का कहना है कि मिलों के महीन राखड़, धुएं और बदबूदार पानी से उन्हें दिक्कत हो रही है, उसके कारण बीमारी व दुर्घटना बढ़ते जा रहे हैं। मिलों से परेशान लोगों का कहना है कि राइस मिलों के महीन राखड़ आंखों को खराब कर रहे हैं। राखड़ के महीन कण आंखों घुस रहे हैं, लोग दर्द के मारे हलाकान होते हैं। कई बार बाइक चलाते समय राखड़ घुसने से बाइक सवार आपस में टकराकर घायल हो रहे हैं।

मिलों का जहरीला धुआं लोगों को सांस संबंधी दिक्कतें दे रहा है। बहुत तकलीफो से गुजरना पड़ रहा है खोखली के ग्राम वासियों को ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *