स्वामी विवेकानंद की स्मृति में रायपुर में बनेगा अंतर्राष्ट्रीय स्तर का स्मारक

छत्तीसगढ़ धर्म


रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में स्वामी विवेकानंद की स्मृति में बनने वाला स्मारक अंतर्राष्ट्रीय स्तर का होगा। उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानंद ने दो वर्ष का समय रायपुर में गुजारा था। वे रायपुर के जिस डे भवन में रूके थे उसे राज्य शासन द्वारा ले लिया गया है और ट्रस्ट को इस भवन की जगह दूसरी जगह जमीन दे दी गई है। युवाओं को उठो, जागो और तब तक न रूको, जब तक लक्ष्य की प्राप्ति नही हो जातीÓ का प्रेरणादायक संदेश देने वाली स्वामी विवेकानंद की स्मृति में अंतर्राष्ट्रीय स्तर का स्मारक बनेगा। मुख्यमंत्री आज रायपुर के कोटा स्थित स्वामी विवेकानंद विद्यापीठ में आयोजित श्री रामकृष्ण प्रार्थना मंदिर प्रतिष्ठापन समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। श्री बघेल ने कहा कि स्वामी रामकृष्ण परमहंस दुनिया के ऐसे पहले संत थे, जिन्होंने कहा था कि हम किसी भी विधि से प्रार्थना करें सभी रास्ते एक ही ईश्वर तक जाते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वामी आत्मानंद, स्वामी निखिलात्मानंद और स्वामी सत्यरूपानंद जी ने छत्तीसगढ़ को स्वामी रामकृष्ण परमहंस और स्वामी विवेकानंद की भावधारा से जो?ने की शुरूआत की। इस अवसर पर समारोह के मुख्य अतिथि चेन्नई रामकृष्ण मठ के अध्यक्ष स्वामी गौतमानंद ने कहा कि धर्म वही है, जो आनंद से जीना सिखाए। उन्होंने स्वामी रामकृष्ण परमहंस की शिक्षाओं पर विस्तार से प्रकाश डाला। विवेकानंद विद्यापीठ कोटा के सचिव डॉ. ओमप्रकाश वर्मा ने आभार प्रकट किया। इस अवसर पर नारायणपुर रामकृष्ण आश्रम के सचिव स्वामी व्याप्तानंद, विवेकानंद आश्रम के सचिव स्वामी सत्यरूपानंद सहित अनेक संत और देश के विभिन्न हिस्सों से आए श्रद्धालु उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *