धान नहीं बेच पाने और बोरे की मांग करने वाले किसानों पर पुलिस लाठीचार्ज बेहद ही निन्दनीय है : तेजराम विद्रोही

छत्तीसगढ़


रायपुर। पिछले दिनों से मौसम की खराबी और बेमौसम बारिश से किसानों को दोहरी मार झेलना पड़ है। एक ओर किसान अपने खरीब सीजन की धान को समर्थन मूल्य में धान खरीदी केन्द्रों में बेच नहीं पाए हैं। सरकार की किसान विरोधी नीतियों के चलते टोकन से लेकर बोरों की कमी के चलते किसान अपना उपज बेचने से वंचित रह गए हैं।
उक्त आशय की जानकारी देते हुए अखिल भारतीय क्रांतिकारी किसान सभा के उपाध्यक्ष मदन लाल साहू, राज्य सचिव तेजराम विद्रोही, सदस्यगण ललित कुमार, उत्तम कुमार, जहुर राम, रेखुराम साहू ने कहा कि प्रदेश में किसानों की समस्याएं बढ़ती ही जा रही है। धान खरीदी में एक महीने की देरी उसके बाद टोकन और लिमिट के नाम से तथा बोरों की कमी से जो परेशानी किसानों को हुआ है जिसके कारण अब तक किसान अपने उपज को खरीदी केन्द्रों में नहीं बेच पाए हैं। बोरों की मांग को लेकर कांकेर में प्रदर्शन कर रहे किसानों के ऊपर पुलिस द्वारा लाठीचार्ज किया जाना बेहद ही निन्दनीय है। कांग्रेस की भूपेश बघेल सरकार किसानों की हितैषी बनकर सत्ता में आया था परंतु यह भी तत्कालीन रमन सिंह की भाजपा सरकार जैसा ही कृत्य कर रहा है जो किसान विरोधी और निन्दनीय है। यदि वास्तव में सरकार किसान हितैषी है तो लाठी चार्ज करने वाले पुलिस व उनके अधिकारियों के ऊपर सख्त कार्यवाही करें प्रदेश की किसानों का उपज खरीदी हेतु तिथि को आगे आगे बढ़ावें।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *