होली की पूर्व संध्या पर सरस काव्य गोष्ठी

छत्तीसगढ़


रायपुर। छत्तीसगढ़ी लोक-कला एवं साहित्य संस्था, सिरजन, शाखा दुर्ग-भिलाई के तत्वावधान में होली की पूर्व संध्या एवं अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर सरस काव्य गोष्ठी का आयोजन लोकनाथ साहू ललकार के निवास, सड़क-2 (मालवीय नगर की दिशा में), गुप्ता सायकल स्टोर्स के पीछे, दीपकनगर, दुर्ग में 8 मार्च रविवार को अपरान्ह 2 बजे से शाम 7 बजे तक आयोजित किया गया। इस काव्य गोष्ठी में मुख्य अतिथि के रूप में साथ रहे लोक परंपरा पत्रिका के संपादक डॉ. डीपी देशमुख , विशिष्ट अतिथि के रूप में रहे वीरेन्द्र तिवारी वीरू संरक्षक शिवनाथ साहित्य धारा डोंगरगांव और अरुण कुमार निगम अध्यक्ष दुर्ग जिला हिंदी साहित्य समिति! इनके साथ ही प्रमुख रूप से इस कार्यक्रम में संस्था के प्रांताध्यक्ष डाँ दीनदयाल साहू, संरक्षक नवीन तिवारी, शची भवि, गजेन्द्र द्विवेदी गिरीश, सूर्यकांत गुप्ता, डाँ नौशाद अहमद सिद्दकी, अर्जुन पेडीडिहा, ओमप्रकाश जायसवाल, छगनलाल सोनी, भागवत निषाद, आलोक नारंग, इजराइल शाद, निजाम राही, नावेद रजा दुर्गावी, लखनलाल साहू, आई एस राही, एम् एल वैद्य, रामबरन कोरी, राजकुमार चौधरी, कुशाल चंद साहू और हाजी ताहिर खां ने अपना रचनात्मक सहयोग दिया। इस काव्यगोष्ठी का सञ्चालन संस्था के प्रसार सचिव गजेन्द्र द्विवेदी गिरीश ने किया। सर्वप्रथम अतिथियों ने माँ सरस्वती के छायाचित्र पर माल्यार्पण कर और चन्दन गुलाल लगाकर जा अर्चना की, फिर लोकनाथ साहू ललकार ने माँ सरस्वती की वन्दना करते हुए हिन्दुस्तान के सुखमय उज्जवल भविष्य की कामना की! तत्पश्चात सभी रचनाकारों ने नारी दिवस और होली पर्व पर अपनी विविध रचनाओं से सभी उपस्थित अन्य रचनाकारों और जनमानस की वाहवाही लूटी। कार्यक्रम के अंतिम दौर में रचनाकारों ने आपस में गुलाल लगाकर एकदूसरे को होली की शुभकामनाएं दी। अंत में संस्था के दुर्ग जिला इकाई के अध्यक्ष अर्जुन पेडीडिहा ने अतिथियों, रचनाकारों और उपस्थित जनमानस का आभार व्यक्त किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *