नेहरू युवा केंद्र ने राज्य के सैकड़ो युवाओं को covid-19 से बचने के लिए प्रशिक्षण दिया

छत्तीसगढ़

रायपुर। नेहरू युवा केंद्र संघठन रायपुर छत्तीसगढ़ ने UNICEF के साथ मिलकर राज्य के 300 से अधिक राष्ट्रीय स्वयंसेवको को प्रशिक्षण दिया। इस प्रशिक्षण में कोविद-19 से बचाओ, रोकथाम और उनसे जुड़े सत्य एवं भ्रांतियों पर चर्चा की गयी। यह प्रशिक्षण नेहरू युवा केंद्र के अधिकारी एवं Unicef के विशेषज्ञों द्वारा दिया गया।

श्रीकांत पांडेय, राज्य निदेशक, नेहरू युवा केंद्र संघठन, रायपुर, छत्तीसगढ़, ने प्रशिक्षण के उद्देश्य बताते हुए कहा की इस प्रशिक्षण के माध्यम से हम ग्रामीण क्षेत्र में कोरोना के नियंत्रण एवं रोकथाम के लिए सशक्त कार्य दल तैयार करना चाहते हैं। उन्होंने बताया की लॉकडाउन हटने के बाद हमे अधिक सतर्क रहना पड़ेगा जिससे इस संक्रमण को वापिस फैलने से रोका जा सके। सोशल डिस्टन्सिंग का निरंतर पालन करते रहना पड़ेगा ऐसी स्तिथि में प्रशिक्षित युवाओं का दल अति उपयोगी साबित होगा।

व्यक्तिगत साफ़ सफाई अति आवश्यक

अभिषेक सिंह, विशेषज्ञ, UNICEF , ने युवाओं को संभोधित करते हुए कहा की इस समय व्यक्तिगत सफाई सबसे ज़रूरी है। युवाओं के साथ वीडियो के माध्यम से हाथ धोने के सही तरीके साझा किया। उन्होंने यह भी बताया की हाथ किसी भी साबुन/ सर्फ से 40 सेकंड तक धोया जा सकता है, ज़रूरी नहीं है की हैंड वाश से ही धोया जाये। उन्होंने युवाओं को बताया की ग्रामीण क्षेत्र में रॉक या मिट्ठी से हाथ धोने की प्रथा को रोकने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने बताया की ऐसी प्रथाओं से हमे बचना चाइये जिससे बिमारियों को दूर भगाया जा सके।

लॉकडाउन एवं दिशा निर्देशों का सकती से पालन करे

गजेंद्र, विशेषज्ञ, UNICEF ने बताया की विश्व में तक़रीबन 23 लाख मामले सामने आये हैं वही भारत में इसके तक़रीबन 15000 मामले आये हैं, वही छत्तीसगढ़ में 36 मामलो में से 24 लोग स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं और 12 मरीज़ो का अभी भी इलाज चल रहा है। उन्होंने बताया इस कोरोना वायरस से 85 प्रतिशत संक्रमित लोग स्वयं की रोग प्रतिरोधक शक्ति से ही तक हो जाते है । लगभग 7 प्रतिशत लोग दवाइयों के सेवन से ठीक हो जाते हैं । जबकि 5 – 6 प्रतिशत लोग के लिए ही यह बीमारी घातक है, इसमें जो व्यक्ति पहले से किसी बीमारी से ग्रसित हैं जैसे मधुमेह, अस्थमा, रक्तचाप इत्यादि, उनके लिए अधिक हानिकारक है। इसके अतिरक्त उन्होंने युवाओं को यह भी सलाह दी की इस बीमारी के लक्षण जैसे बुखार आना, सुखी खांसी, साँस लेने में तकलीफ होने पर सर्कार द्वारा दिए गए हेल्पलाइन नंबर 104 पर इसकी तुरंत जानकारी दें। हलाकि उन्होंने यह भी बताया की बेवजह अस्पताल जाने से भी बचे, बेवजह अस्पताल के चक्कर लगाने से स्वयं को ही नुकसान होगा। उन्होंने युवाओ को यह भी समझाइश दी की कई बार व्यक्ति वायरस से संक्रमित रहता है पर लक्षण नहीं दिखते है पर वह व्यक्ति दूसरे व्यक्तियों को संक्रमित कर सकता है। कोविद -19 से ग्रसित व्यक्ति औसतन 5 दिन में लक्षण दिखने लगते है पर कई बार इसके लक्षण दिखने में 14 भी लग जाते हैं। इसलिए क्वारंटाइन में रहकर सरकार के दिशा निर्देशों का पालन करना अति आवश्यक है।

फेक न्यूज़ और भ्रांतियों से दूरी बनाये रखे

अर्पित तिवारी, जिला युवा समन्यक, नेहरू युवा केंद्र, रायपुर, ने युवाओं को बताया की इस समय फेक न्यूज़ और गलत भ्रांतियों से दूर रहे। वर्तमान में व्यक्ति कोरोना वायरस से कम और भ्रांतियों से ज़ादा ग्रसित हैं । उन्होंने बताया की शासन द्वारा अधिकृत जानकारी ही लोगो तक साझा करे, व्हाट्सप्प और सोशल मीडिया पर गलत जानकारी से सावधान रहे। उन्होंने आगे बताया की नेहरू युवा केंद्र द्वारा फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, व्हाट्सप्प के माध्यम से लोगो को जागरूक कर रहा है, साथ ही जिला प्रशासन, सरपंचो की सहायता से ज़रूरत मांडो की मदद भी की जा रही है। उन्होंने युवाओं को बताया की कोई भी व्यक्ति जो नेहरू युवा केंद्र के साथ जुड़कर इस लड़ाई में सहयोग करना चाहता है वह हमसे सीधे संपर्क कर सकता है।

सामजिक दूरी नहीं शारीरिक दूरी बनाये

डॉ. चित्रा, विशेषयज्ञ, UNICEF ने युवाओं को स्वस्थ रहने के लिए प्रेरित किआ । उन्होंने युवाओ को योग का महत्व समझया और कहा की वह खुद भी योग करे साथ ही अपने परिजनो को भी प्रोत्साहित करे । ऐसे समय में जब सारी शारीरिक गतिविधियां रुक गयी है योग करने से हम घर बैठ स्वस्थ रह सकते है। ऐसा करने से उनका मानसिक तनाव भी काम होगा। उन्होंने यह भी कहा की सोशल डिस्टन्सिंग का पालन करे पर इसका मतलब यह नहीं है की आप सामाजिक दुरी बना ले, इसका सिर्फ यह आशय है की शारीरिक दूरी बना कर चले। डॉ. चित्रा ने युवाओ को समझाया की अगर आपके पास किसी व्यक्ति को कोविद-19 होता है तो उससे और उसके परिवार वालो से आत्मीयता से व्यव्हार करे न की सामजिक दूरी बनाकर हीन भावना रखे। यह बीमारी किसी को भी हो सकती है पर हम सभी को इसका डटकर मुक़ाबला करना है।

जन सहयोग से ही कोविद-19 पर विजय पाई जा सकती है

नितिन शर्मा, जिला युवा समन्वयक दुर्ग छत्तीसगढ़ ने बताया की उनके द्वारा कोविद-19 के बचाओ और रोकथाम के लिए बहुत सी गतिविधियां चलाई जा रही है जैसे – दीवार लेखन, मास्क वितरण, सोशल मीडिया पर जागरूकता अभियान। साथ ही शासन द्वारा प्रकाशित दिशा निर्देशों को जन जन तक पहुंचाया जा रहा है। उन्होंने बताया की इसका काफी सकारात्मक परिणाम सामने आया हैं और इस महामारी को फैलने से रोकने में सहायता मिली है।

इस प्रशिक्षण में हिमांशु गुप्ता, अंजलि सहित नेहरू युवा केंद्र के सारे जिला अधिकारी उपस्तिथ थे। एवं राष्ट्रीय युवा स्वयंसेवक ईश्वर प्रसाद बंदे, रविशंकर वर्मा, दीक्षा पटेल, हीरा साहू, दीक्षा तिवारी, रामेश्वर जगत, लक्ष्मी ध्रुव, विनय झा, नरेंद्र कुमार आदि उपस्थित थे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *