पढ़ाई तुंहर दुवार के अंतर्गत वाट्सएप्प ग्रुप में पढ़ाई

एजुकेशन छत्तीसगढ़

रायपुर। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते स्कूली छात्र, छात्राए छुट्टियों पर है। इन छुट्टियों के बावजूद लोगों की क्लास घर पर लग रही हैं । इस क्लास में उन्हें ,चित्रकारी ,हिन्दी कहानी मुहावरा,व्याकरण में संज्ञा,सर्वनाम,वचन,लिंग,विलोम शब्द आदि पाठ्यपुस्तक से सम्बंधित गृह कार्य दिया जा रहा है ,ताकि उनका ध्यान पढ़ाई की तरफ बना रहें ।इसके लिए शिक्षका श्रीमती सुनीला फ्रेंकलिन शा.प्राथमिक. शाला कचना के द्वारा 20 मार्च से एक अनूठा प्रयास किया जा रहा है । इसके जरिये बच्चे घर बैठे उत्तर देने में अपनी पूर्ण रुचि दिखा रहे हैं। शिक्षिका द्वारा पहले से बनाये गए बच्चों के पालक समूह वाट्सएप्प ग्रुप का उपयोग किया ,तथा शाला के अन्य कक्षा के बच्चों का मोबाइल नंबर एकत्रित कर उन्हें भी ग्रुप में जोड़ा और पालकों को घर पर बच्चों के शिक्षण कार्य के लिए प्रेरित किया । पढ़ाई तुंहर दुवार के अंतर्गत प्रतिदिन बच्चों को चित्र देखकर कहानी बनाओ,चित्र में अंतर ढूंढो,घरेलू कार्य मे उपयोग होने वाले वस्तु,खेल के नाम,चित्रकारी,कौन हल करेगा,मेरा एक सवाल,बूझो तो जाने ,मुहावरा,कविता बोलो,कहानी लिखो,समानो के डब्बे पर लेबनिंग करना,अपने घर पर उपलब्ध पेड़ पौधों का अवलोकन कर उसकी सारणी बनाना इत्यादि प्रश्नों को पोस्ट किया जाता है । इस तरीकों से बालक के साथ पालक भी उत्साहित होकर अपने बच्चों से प्रश्न पूछते है और उसका उत्तर पोस्ट करते है।
शिक्षिका के द्वारा बच्चों के द्वारा पोस्ट किए गए गतिविधियों पर फीडबैक भी दिया जाता है, सभी बच्चों को प्रतिदिन प्रोत्साहित किया जाता है, बच्चे घर पर पढ़ते,लिखते हुए अपना 2 मिनट का वीडियो भी बना कर भेजा है।
पालको ने ही ग्रुप का नाम “हमर मोबाइल स्कूल” रख दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *