धमतरी के जालमपुर वार्ड में कोरोना का कोई मामला नहीं

छत्तीसगढ़

रायपुर। कोरोना वायरस (कोविड-19) के संभावित संक्रमण की रोकथाम तथा इससे प्रभावित मरीज को कोरोना फाइटर्स टीम त्वरित रूप से सुरक्षा घेरे में लेकर उसके उपचार की व्यवस्था के लिए किस तरीके का कदम उठाती है। इसके परीक्षण के लिए धमतरी जिला प्रशासन द्वारा मंगलवार को नगर के जालमपुर वार्ड में मॉकड्रील (रिहर्सल) किया गया। इस  मॉकड्रील की प्रक्रिया इतनी गोपनीय रखी गई थी कि चुनिन्दा आला अधिकारियों को छोड़ इसकी जानकारी किसी को भी नहीं थी।

    जिले के उच्च अधिकरियों द्वारा स्वास्थ्य विभाग और कोरोना फाइटर्स की टीम को जैसे ही यह सूचना दी गई की जालमपुर वार्ड का एक व्यक्ति आर.टी.-पी.सी.आर. टेस्ट में कोरोना पॉजीटिव पाया गया है, वैसे ही तत्परता से कोरोना फाइटर्स की टीम ने सुरक्षा का पूरा एहतियात बरतते हुए संबंधित व्यक्ति को शीघ्रता से स्वास्थ्य सुरक्षा घेरे में लेकर उसे इलाज के लिए एम्बुलेंस से एम्स रायपुर के लिए रवाना किया।

    जिला प्रशासन के इस मॉकड्रील के कारण पूरे धमतरी नगर में आग की तरह यह खबर फैल गई की धमतरी में कोरोना का एक मरीज मिला है। लोगों ने सच्चाई का पता लगाए बिना इसे सोशल मीडिया में भी वायरल करना शुरू कर दिया, जबकि धमतरी में कोरोना का कोई पॉजीटिव मरीज मिला ही नहीं है। यह मॉकड्रील जिला प्रशासन द्वारा सिर्फ कोरोना फाइटर्स टीम की तत्परता, सर्तकता एवं कार्रवाई का परीक्षण करने के उद्देश्य से आयोजित किया गया था।

    मॉकड्रील की इस कार्यवाही के दौरान जालमपुर वार्ड के प्रत्येक घर में स्वास्थ्य विभाग की टीम के द्वारा स्वास्थ्य जांच की गई। नगर निगम की टीम के द्वारा हाइपो क्लोराइट लिक्विड का छिड़काव कर सैनिटाइजेशन किया गया। पूरे वार्ड को संवेदनशील क्षेत्र घोषित कर आवाजाही तथा लोगों का घर से निकलना पूर्णतः प्रतिबंधित कर दिया गया। इस दौरान कलेक्टर श्री रजत बंसल, एसपी श्री बीपी राजभानू, जिला पंचायत की सी.ई.ओ. श्रीमती नम्रता गांधी तथा एडिशनल एसपी श्रीमती मनीषा ठाकुर रावटे द्वारा पूरे क्षेत्र में स्वास्थ्य एवं पुलिस विभाग के अमले की तैनाती का जायजा लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *