छत्तीसगढ़ के मजदूरों की पुणे में पिटाई …

छत्तीसगढ़

By।अविनाश वाधवा

तिल्दा नेवरा । शहर की रौनक नही मजदूर की मजबूरी उन्हें अन्य प्रदेश में पलायन के लिए विवश कर देती है। छत्तीसगढ़ के कई श्रमिक बढ़िया पैसे की उम्मीदों से दूसरे राज्य जाते है । मौजूदा हालात में उन्हें मेहनत के बदले कम मजदूरी दी जाती है और हक की लड़ाई करने पर पिटाई भी की जाती है। छत्तीसगढ़ के मजदूरों को पुणे के ठेकेदार ने पिटाई किया है। मजदूर ठेकेदार अंदर कार्यरत है। लॉक डाउन में यहां के मजदूर परिवार सहित पुणे में फॅसे है। रायपुर जिले के ग्राम अलदा, विकास खंड तिल्दा से राजू वर्मा, उनकी पत्नी लक्ष्मी वर्मा, पुत्र, झीलेश, शिव कुमार वर्मा पत्नी पूर्णिमा, पुत्री शिखा, पुत्र अखिलेश, सीताराम, पत्नी लक्ष्मी,पुत्री रेणुका, पुत्र धनन्जय, इसी तरह ग्राम ओडगंन से कृष्ण कुमार वर्मा , अजय ध्रुव, संजय ध्रुव, नारायण गांव, तहसील-जुन्नर, जिला पूणे, महाराष्ट्र, खोडद , नारायण गाँव, स्वामी विवेकानंद गोसावि हॉस्पिटल के पीछे कामगर सिविल लाइंस, में ठहरे है। ठेकेदार का नाम पिंटू चौहान बताया जा रहा है। मजदूर कृष्ण कुमार वर्मा , जिला पंचायत सभापति राजु शर्मा के संपर्क में है उन्होंने बताया कि उनको पर्याप्त मजदूरी नही दी जा रही है, और मारपीट कर जबरदस्ती काम कराया जा रहा है, उनके साथ महिला एवं छोटे छोटे बच्चे है, वहाँ अमानवीय हालात में रह रहे है, जिला पंचायत सभापति राजू शर्मा ने शासन से मांग किया है कि छत्तीसगढ़ के मजदूर जो बाहर मजदूरी करने गए है, उनके साथ मारपीट हो रहा है, और पूरे परिवार का पेट पालना उनके सामने चुनौती है, अतः सभी लोगों को वापस लाया जाए, उनके रहने और खाने की व्यवस्था की जाए, और ठेकेदार के विरुद्ध कानूनी कार्यवाही की जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *