लाक डॉऊन में कांग्रेस सरकार खुलेआम शराब बेच रही : अनिल पांडे

छत्तीसगढ़

तिल्दा। भारतीय जनता पार्टी के किसान मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष अनिल पांडे, मंडल अध्यक्ष केजू राम बघेल, युवा मोर्चा के जिला अध्यक्ष आनंद यादव, धीरज जैन,अभिजीत अवस्थी ने संयुक्त बयान जारी करते हुए प्रदेश में कांग्रेस की सरकार शराब के कारोबार को रोकने के लिए चुनौती दी है। भाजपा नेताओं ने कहा है कि राजस्व संग्रह के लिए लोगों के जीवन के साथ समझौता करना सही नहीं है, क्योंकि शराब बिक्री के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए बेहद मुश्किल है और कोरोना संकट के चलते लॉकडाउन में शराब दुकानें नहीं खोली जानी चाहिए। उन्होंने अपने जारी बयान में कहा कि कोरोना महामारी की वजह से पूरा देश लाक डाउन मे चल रहा है और अभी लाक डॉऊन खुला भी नहीं है कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार खुलेआम शराब बेचने में जुट गई है और जब भाजपा के नेता इसका विरोध कर रहे हैं तो कांग्रेस के नेता भाजपा शासनकाल में 15 वर्षो के दौरान शराब की बिक्री की बात करते है। जबकि भाजपा ने कभी गंगा जल को हाथ मे लेकर शराब बन्दी की बात कभी नही कही थी अपितु डॉक्टर रमन सिंह के शासन काल मे शराब की दुकाने की कमी की गयी शराब की ठेकेदारी प्रथा खत्म की गयी थी। कोचिआ प्रथा बंद की गयी और कांग्रेस ने सत्ता सम्हालते ही कहने लगी कि शराब बन्दी होने से लोग कच्ची शराब पीकर मरने लगेगे। भाजपा नेताओ ने प्रदेश सरकार से पुछा कि वे बताये कि इस लाक डाउन के 45 दिनो के दौरान कितने लोगो कि बिना शराब पिये मौत हुई है जबकि शराब की दुकाने खुलने से रोज ही अपराध का ग्राफ बढ़ने लग गया है। उन्होंने कहा कि लॉकडॉउन के समय छत्तीसगढ़ शांति का टापू था लेकिन जैसे ही शराब की बेरोकटोक बिक्री चालू हुई है, प्रदेश अशांत हो चला है। शराब के नशे में जहां अपने माता व पिता की हत्या की घटना सुनाई पड़ी वही शराब ने घरों की शान्ति भंग कर डाली है। यह बहुत ही चिंता की बात है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *