कोरोना रिकवरी छग में 96 तो देश में 28 प्रतिशत

छत्तीसगढ़ राजनिति


० बघेल-सिंहदेव के संयुक्त प्रयास की सराहना


राजनांदगांव। कभी पेंडारी नसबंदी और बालोद नेत्रकांड व गर्भाशय कांड जैसे घटनाक्रमों से तत्कालीन भाजपा सरकार ने वैश्विक स्तर पर इस प्रदेश की छवि खराब हुई थी। भाजपा सरकार के 15 साल के कार्यकाल मे छत्तीसगढ़ की गिनती बीमार राज्यों में होती वही प्रदेश का स्वास्थ्य तंत्र लचर हालत में था, लेकिन पिछले डेढ़ साल के अल्प समय में ही सूबे के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल एवं स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के संयुक्त प्रयासों ने राज्य को स्वास्थ्य सेवाओं को देश के अग्रणी स्थान में पहुंचा दिया।


उक्त उद्गार व्यक्त करते कांग्रेस नेता आफताब आलम ने कहा कि कोरोना जैसी भीषण महामारी में जहां विश्व के ज्यादातर देश घुटने टेक दिए है। वहीं देश में तीन-चार राज्य गंभीर स्थिति से जूझ रहे है। ऐसी विषम परिस्थितियों में प्रदेश के मुखिया श्री बघेल और स्वास्थ्य मंत्री श्री सिंहदेव की कुशल क्षमता एवं सूझ-बूझ से मंगलवार को प्रदेश कोरोना रिकवरी मामले में राष्ट्रीय परिदृश्य में एक आर्दश राज्य के रूप में उभरा है। प्रदेश में रिकवरी 98 प्रतिशत है, वहीं समूचे देश का रिकवरी 28 प्रतिशत है। उन्होंने कहा छत्तीसगढ़ की तुलना ताईवान हो रही है, क्योंकि ताईवान कोरोना मुक्त देश होने की स्थिति में पहुंच गया है। छत्तीसगढ़ राज्य की प्रंशसा विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्ल्यूएचओ ने भी की है। अमेरिका के कॉउसलेट गर्वनर भी स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव से भी मार्गदर्शन लिए है।

श्री आलम ने कहा लाकडाउन के दौरान देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लोगों से सिर्फ थाली और दिए जलवाएं, जबकि मुख्यमंत्री बघेल ने लोगों चूल्हे जलवाएं। मुख्यमंत्री का प्रण था कि प्रदेश का कोई भी व्यक्ति भूखा न सोए, उनका यह इरादा जमीनी स्तर पर नजर आया। छत्तीसगढ़ में प्रवासी मजदूरों की वापसी भी मुख्यमंत्री के उदारता से संभव हुई है। आलम ने कहा कि प्रदेश मे कोरोना के खिलाफ चल रही जंग में मिल रही आशातीत सफलता राज्य सरकार की इच्छाशक्ति के बूते ही मिल रही है। देश के दीगर प्रांतो की अपेक्षा छत्तीसगढ़ कोरोना जंग से उपजे आर्थिक और सामाजिक समस्याओं का निपटारा आसानी से कर रहा है। श्री आलम ने कहा कि बघेल सरकार के प्रबंधन की इसलिए भी तारीफ हो रही है कि केंद्र सरकार द्वारा जीएसटी, कोयला के लांभाश को दिए जाने में जान-बूझकर देरी की जा रही है। आर्थिक रूप से केंद्र सरकार ने ऐसी स्थिति में भी प्रदेश को कमजोर करने का षड्यंत्र रचा है। इसके बाद भी बघेल सरकार बेहतर सोच और मजबूत इरादे के साथ सभी मोर्चे पर कामयाब हो रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *