राम वागमन पथ ,के रास्ते में गढ्ढे व कीचड़

छत्तीसगढ़

By.पुरन मरकाम ,विजय कुमार


नगरी. सिहावा, भूपेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं मे से एक ,रामवागमन पथ का सोदर्यकारण व जीणैधर करना ,नगरी सिहावा के धमतरी जिला के अन्तिम छोर पर बसा रामवागमन पथ का एक चिन्हित स्थान। यहाँ स्थान धमतरी जिला व काकेर जिला के सीमा पर स्थिति नगरी से 25किलोमीटर मे पश्चिम दक्षिणी दिशा पर स्थिति कर्क कृषि जो सरकार की महवत्वकाक्षी योजनाओं के तहत यहां कर्क कृषि आश्रम को भी चिन्हित या सम्मलित किया गया है।
राम वागमन पथ पर पौधों रोपण का कार्य किया गया है ।लेकिन कर्क कृषि आश्रम पहुंचने के लिए पक्की सड़क नहीं है यहाँ स्थान दुधवा डेम से गिरा हुआ बरसात के दिनो में जल स्तर बढऩे से यहां कर्क कृषि आश्रम का दृश्य मन मोह लेता है। यहाँ आश्रम दो जिलों के सीमा पर होने से ।प्रतिदिन बडी संख्या में श्रद्धालुओं पहुचते हैं। इस स्थान तक पहुंचने कज लिए पक्की सडक़ नही है जगह जगह सडक़ पर गढ्ढे बना हुआ है पहाड़ी क्षेत्र होने से गढ्ढे के साथ साथ किचड भी हैै. बरसात के दिनो में कीचड़. होने से आने जाने में काफी दिक्कत होती है. वही श्रद्धालुओं को भी कीचड गढ्ढे रास्ता से चल कर कर्क कृषि आश्रम पहुचते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *