राशन विक्रेता की शिकायत ग्रामीणों ने एसडीएम से किया…

छत्तीसगढ़

By. शिवचरण सिन्हा

दुर्गूकोंदल. दुर्गूकोंदल विकासखंड के ग्राम पंचायत सुखई के राशन विक्रेता और स्वसहायता समूह को हटाने सरपंच, उपसरपंच, वार्ड पंच और ग्रामीणों ने एसडीएम से की लिखित शिकायत की है। सरपंच सुमित्रा दुग्गा, उपसरपंच दिनेश माहवे, कृष्णा जैन, जगतराम दुग्गा ने बताया कि दुकान संचालक और समूह की मनमानी दो माह से हितग्राहियों को नहीं चना नहीं बांटा गया। कुछ हितग्राहियों को चावल भी वितरण नहीं किया है। लाकडाउन के दौरान निर्धारित दर से 3रू अधिक दामों पर गुड़ बेचा है। इन्हें चना वितरण करने और गुड़ की राशि अधिक लेने की बात करने पर राशन विक्रेता झुमुक यादव ने अपनी पहुंच फूड इंस्पेक्टर से होने की हवाला देकर चना वितरण करूं या ना करूं मेरा क्या कर लोगे कह दिया। सरपंच, उपसरपंच ने कहा कि समूह और दुकान संचालक को हटाने के लिए प्रस्ताव पारित कर फूड इंस्पेक्टर को आवेदन दिये। लेकिन फूड इंस्पेक्टर ने खाद्य विभाग में ग्राम पंचायत के पंचायत के प्रस्ताव को कोई कीमत नहीं होने की बात कही है। इन्होंने बताया कि पंचायत के प्रस्ताव के बावजूद समूह और राशन विक्रेता को नहीं हटाने पर पंचायत के सभी प्रतिनिधि और ग्रामीण धरना देंगे जिसकी जवाबदारी शासन प्रशासन की होगी। खाद्य विभाग की सांठगांठ। ब्लाक युवक कांग्रेस अध्यक्ष एवं उपसरपंच दिनेश माहवे ने बताया कि फूड इंस्पेक्टर ने एक विक्रेता झुमुकलाल यादव को सुखई , मेड़ों, करकापाल में राशन वितरण की जिम्मेदारी दी है। तीन जगह एक ही विक्रेता को वितरण कार्य देने से गांवों के हितग्राहियों को समय पर राशन नहीं मिल पा रहा है। युवक कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि फूड इंस्पेक्टर और दुकान संचालक की सांठगांठ के चलते तीन दुकान में मनमर्जी चल रही है। मेड़ो पंचायत के सरपंच ने भी विक्रेता झुमुकलाल यादव को हटाने के लिए आवेदन दिया है इसके बावजूद इसे नहीं हटाकर खाद्य विभाग पूरी संरक्षण दे रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *