आदिवासियों ने नवाखाई पर्व हर्षोल्लास के  साथ मनाया

By. शिवचरण सिन्हा

दुर्गुकोंडल. विकासखंड दुर्गुकोंडल एवं पूरे अंचल में आदिवासियों का प्रमुख त्यौहार नवाखाई हर्षोल्लास के साथ गुरुवार को मनाया गया. इसके दूसरा दिन शुक्रवार को ठाकुर जोहारीन का कार्यक्रम होगा. ग्राम गायता एवं गोंडवाना समाज के सचिव बैजनाथ नरेटी ने बताया है कि इस दिन समुदाय के लोग धान की नई फसल आने को लेकर त्यौहार मनाते हैं. और यह फसल को सबसे पहले अपने आराध्य देव बूढ़ादेव को अर्पित करने के बाद प्रसाद के रूप में ग्रहण करते हैं नई फसल को अर्पण करने के बाद पूरा परिवार एक साथ बैठकर इसे कोरिया के पत्ते में प्रसाद के रूप में वितरण किया जाता है इसके पूर्व घर की बहू सभी का आरती उतारकर प्रसाद का वितरण करते हैं. यह परंपरा प्राचीन काल से चली आ रही है. यह भी मान्यता है की आदिवासी समुदाय में जो भावी बहू होती है उसे भी इस दिन अपने घर ले आकर नया खिलाने का रस्म पूरा किया जाता है इसके लिए समुदाय के लोग अपने घर परिवार में साथ मिलकर ही यह त्यौहार मनाते हैं चाहे कहीं भी हो इस दिन घर जरूर आते हैं.
कोदापाखा स्थित नरेटी परिवार का विशेष नवा खानी पर्व आदिवासी समाज के जनपद सदस्य देवलाल नरेटी ने दवाखाने के संबंध में अपने परिवार परंपरा के अनुसार: नवाखानी पर्व में नरेटी मांझी परिवार का मुख्या पेन गुटूह माड़िया का स्थान कोदापाखा में है जिसका सेवादार रामप्रसाद नरेटी है जंहा मांझी परिवारों का पूर्वज गुरु भूमियार , माता मावली स्थापित है. जंहा नरेटी मांझी परिवार कोदापाखा के अलावा खुटगांव , कन्हारगांव ,कोकरीपारा, चौगेलपारा, मुल्ला, पोटगांव, कापसी (कांकेर),नेरोंडाडिही , घमरे, मेड़ों एंव आस – पास गांव के समस्त नरेटी मांझी परिवार के लोग एक जगह कोदापाखा में एकत्रित होकर माता भूमियार का सेवा अर्चना कर नए फसल का भोग अर्पित कर परिवार में एंव गांव क्षेत्र के लिए सुख समृद्धि, अच्छे फसल एंव मंगलकामना के याचना करते हैं ।
जन्हा समस्त नरेटी मांझी परिवार के आलावा गांव के भाई परिवार एंव अक्को – मामा एक साथ भाई चारे के साथ लाकांज के रूप में प्रसाद ग्रहण करते हैं। एंव इस त्यौहार में नए मंगेतर बहु का परिवार में स्वागत किया जाता एंव कुशल कामना के साथ नया खिलाने का रस्म भी होता है।
जो आदिवासी सामाज में सदियों से चली आ रही प्रथा है जो नरेटी परिवार के आलावा अन्य परिवारों में भी यह प्रथा चली आ रही है इस वर्ष भी नरेटी मांझी परिवार में नए मंगेतर बहु कानागांव (अंतागढ़) के उइके परिवार से शिवानी उइके को दुर्गसाय नरेटी के लिए नया खिलाने लाए हैं जिनका आज नरेटी परिवार में स्वागत किया गया। गोंडी धर्म प्रकृति दर्शन एवं विज्ञान समयक समाज की धर्म संस्कृति इतिहास परंपरा देव संस्कृति के अनुसार संपादित होती है प्रकृति पुत्र होने के कारण उत्पादित अनाज आदि शक्ति बूढादेव के चरणों में अर्पित करने के बाद समाज के लोगों ने अन्य ग्रहण किए इस त्यौहार में आपसी भाईचारे प्रेम सद्भावना एवं सादगी पूर्ण तरीके से समाज के सामाजिक आर्थिक सांस्कृतिक शैक्षणिक एवं अध्यात्मिक को लेकर आदिवासी समाज के लोगों ने हर्षोल्लास के साथ यह नवाखाई का पर्व धूमधाम से पूरे अंचल में मनाया गया और एक दूसरे को बधाई दी इसके अलावा बड़ो से आशीर्वाद एवं छोटों को बड़ों के द्वारा आशीर्वाद दिया गया .

28 अगस्त को ठाकुर जोहरीन का पर्व मनाया जाएगा

28 अगस्त को ठाकुर जोहरीन का पर्व मनाया जाएगा नवाखानी के दूसरे दिन बांसी तिहार के रूप में पूरे अंचल में ठाकुर जोहारीन का पर्व मनाया जाएगा. आदिवासी समाज के ब्लॉक अध्यक्ष मेहर सिंह दुग्गा गोंडवाना समाज के सचिव ग्राम गायता बैजनाथ नरेटी ने बताया कि ठाकुर जोहारीन पर पूरे अंचल में नावखानी के दूसरे दिन मनाया जाता है जिसमें ग्राम के लोग एक साथ इकट्ठा होकर गायता ठाकुर के घर पहुंच कर ठाकुर जोहरीन कार्यक्रम करते हैं जिसमें ग्राम के लोग ठाकुर से मिलकर पूजा अर्चना एवं अन्य चर्चा करते हैं जिसमें परंपरा के अनुसार एवं अन्य विषयों पर चर्चा होती है जहां यह परंपरा वर्षो से चलती आ रही है जिसमें ठाकुर परिवार के द्वारा भोजन की व्यवस्था की जाती है इसके अलावा समाज के लोगों के द्वारा हुलकी कर्मा ददरिया रेला एवं अन्य कार्यक्रम आयोजित होगा.

NEWS27_REPORTER

http://news27.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *