बस संचालको ने मांगों को लेकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए किया एक दिवसीय धरना……

by. धर्मेंद्र साहू

धमतरी:- कोरोना काल में जनजीवन धीरे-धीरे सामान्य हो रहा है। बाजार खुलने लगे हैं, लेकिन प्रदेश भर में बसों का संचालन अब तक शुरू नहीं हो पाया है। इसके नहीं चलने से दूर दराज की सफर करने वालों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।
बस ऑपरेटर और शासन के बीच प्रदेश की जनता पीस रही है। बस ऑपरेटर अपनी मांगों पर अड़े हुए हैं और शासन ने अब तक कोई निर्णय नहीं लिया है। बस ऑपरेटर संघ विभिन्न मांगों को लेकर प्रदेश भर के बस डिपो में एक दिवसीय धरना-प्रदर्शन पर बैठ गए। धरना -प्रदर्शन मे बैठे संघ के ऑपरेटर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया |
बता दें कि राज्य सरकार ने राज्य को अनलॉक घोषित कर बसों के संचालन को हरी झंडी दे दी थी, लेकिन बस ऑपरेटर अपनी मांग पर अड़े रहे। फिर परिवहन विभाग के अधिकारियों और बस ऑपरेटरों के बीच बैठक आयोजित की गई थी। बस ऑपरेटरों को टैक्स में छूट दी गई, जिसके बाद ऑपरेटरों ने कुछ बसों का संचालन शुरू किया था।
इसके बाद 22 जुलाई से शासन ने फिर लॉकडाउन घोषित कर दिया, तब से बसों का संचालन बंद है। 6 अगस्त को राज्य सरकार ने बसें चलाने का आदेश जारी किया, लेकिन बस संचालक अपनी आठ सूत्री मांग पर अड़े है।
बस ऑपरेटर संघ का कहना है जब तक बस संचालकों की मांग शासन पूरी नहीं करेगा तब तक बसों का संचालन शुरू नहीं किया जाएगा। अगर मांग पूरी नही होती है तो वे उग्र आंदोलन के लिए बाध्य होंगे।
ये है मांगे : सितंबर माह 2020 से मार्च 2021 तक का टैक्स माफ किया जाए, यात्री किराया 40 फीसद तक बढ़ाया जाए, स्लीपर का टैक्स एक ही लिया जाए, डीजल में वैट टैक्स की राशि को 50 प्रतिशत तक कम किया जाए, Kफॉर्म एवं M फॉर्म के नियम 2009 की अधिसूचना को समाप्त किया जाए, परमिट के नवीनीकरण के प्रत्येक हस्ताक्षर ना होने पर टैक्स ना लिया जाए, भौतिक सत्यापन कर बैठक की क्षमता के आधार पर पंजीयन किया जाए, पक्के परमिट को छोड़कर बाकी सारे काम पंजीयन अधिकारी आरटीओ और डीटीयू को दिया जाए।

NEWS27_REPORTER

http://news27.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *