तिल्दा नेवरा में जुआ-सट्टा खुलेआम गांजा , नशीले सामानों की बिक्री…

By. अविनाश वाधवा

तिल्दा नेवरा. शहर अपराधों के मकड़जाल में फंसता जा रहा है.शहर में जुआ-सट्टा खुलेआम हो रहा है,जगह-जगह गांजा और नशीले समानो की बिक्री के साथ अन्य प्रदेशों खासकर हरियाणा से शराब लाकर बेरोक टोक धड़ल्ले से यहाँ खपाई जा रही है। इस गोरखधंधे से कई ऐसे सफेदपोश जुड़े हुए हैं जिनका ज्यादातर समय पुलिस थाने में गुजारता हैं।लोगों का दावा की जितनी अंग्रेजी शराब की खपत सरकारी दुकान में होती है। लगभग उतनी ही शराब अवैध रूप से शहर में बिक रही है।हालांकि पुलिस इस बात से इंकार करती है लेकिन लोगों का आरोप है कि पुलिस के संरक्षण में ही यह अवैध कारोबार हो रहा है।

अवैध शराब का बड़ी मंडी बना शहर..

बताया जाता है कि तिल्दा में अवैध शराब बेचने वाले लोग मेटाडोर और ट्रकों से शराब मंगवाते है | शराब रखने के लिए कुछ जगहों पर गोदाम बनाकर रखे गए हैं जहां शराब खाली हो जाती है। उसके बाद फिर निर्धारित स्थानों पर शराब की पेटियां पहुंचाई जाती है। अवैध शराब बेचने वाले लोग सुबह से ही शराब बेचना शुरू कर देते हैं। इतना ही नहीं यदि आप चाहे तो घर बैठे शराब मंगा सकते है।तिल्दा शहर में 6 से भी अधिक स्थानों पर शराब खपाई जाती है। ऐसे तो तिल्दा पुलिस आए दिन शराब पकड़ने की बात करती है।लेकिन पुलिस ऐसे लोगों को पकड़ती है जो शराब दुकान से तीन चार बोतल या 15-16 पाव खरीद कर खरीद कर घरो में होने वाले आयोजनों के लिए ले जाते हैं।या फिर छोटे कोचिए जो गांव में शराब बेचते हैं।थाने में नहीं करते लोग शिकायत.

लोगों का कहना है कि शराब उनकी आंखों के सामने बेची जाती है।बावजूद शिकायत नहीं करते है क्यों कि शराब बेचने वाले सफेदपोश लोग ज्यादातर पुलिस थाने में ही दिखते हैं।उनका कहना है कि यदि वे थाने में शिकायत करते भी हैं तो शिकायत करने वालो की जानकारी उन शराब तस्करों तक पहंच जाती है या फिर उनसे यह कहा जाता कि चले हम तुमको लेकर चलते हैंऔर तुम्हारे सामने में ही छापा मारेंगे।इतना ही नहीं कई बार तो ऐसा होता है कि पुलिस शिकायत करने वाले लोगों को ही थाने में यह कहकर बैठा दिया जाता है कि तुम शराब पिए हुए हो।ऐसे में कार्रवाई के डर से लोग चाहकर भी शिकायत नही करते है

खुलेआम चल रहा है सट्टा जुआ..


तिल्दा पुलिस शायद सट्टा जुआ को अपराध नहीं मानती है.. इसीलिए शहर के चौक चौराहों पर खुलेआम सट्टा -पट्टी लिखने वाले लोग नजर आते हैं. थाना से 200कदम दूर शहर की पुरानी शराब दुकान के पास ओव्हर ब्रिज के नीचे खुलेआम सट्टा पट्टी लिखी जाती है.. इसी तरह गांधी चौक. मंडी चौक नेवरा बस्ती,तिल्दा बस्ती. टॉकीज, के पास के साथ और कई और जगहों पर खुलेआम सट्टा-पट्टी लिखा जाता है.. सट्टा पट्टी कौन लिखता है कहां -कहां लिखी जाती है यह जानकारी पुलिस के पास तो है लेकिन जब पुलिस यहां जाती है तो खाली हाथ लौट आती है.. दरअसल छापामार कार्यवाही के पहले ही उनको खबर कर दी जाती है.|बड़े अधिकारियो से शिकायत होने पर यदि जाँच होती है तो शहरकथित दलाल जो अपने आप को कांग्रेस और भाजपा के नेता बताते हैं और थाने में पहुंच जाते हैं|कई तो ऐसे लोग हैं जो अपने आप को पत्रकार बताते हैं और जब कोई अधिकारी आता है तो ऐसे पत्रकारों को सामने कर दिया जाता है जो उन अधिकारियों के पास तिल्दा पुलिस की वाही-वाही करते नजर आते हैं। तिल्दा में सट्टा जुए की शिकायत पूर्व में कांग्रेस के कार्यकर्ता सांसद छाया वर्मा से मिलकर एसएसपी रायपुर से कर चुके हैं। बावजूद यहां सट्टा जुआ गांजा और शराब का अवैध व्यापार खुलेआम फल फूल रहा है।


शहर विकास समिति का गठन कर किया जाएगा विरोध


शहर में हो रहे अवैध कार्यों का विरोध करने के लिए एक सर्वदलीय समिति बनाई जा रही है.जिसमें कांग्रेस,भाजपा,आम आदमी पार्टी ,जोगी कांग्रेस ,के कार्यकर्ताओ के साथ शहर के आम आदमी,महिला-पुरुष और युवक-युवतियो को शामिल किया जाएगा ।कोरोना के चलते आंदोलन प्रदर्शन पर रोक लगी हुई है.बावजूद नियमों का पालन करते हुए समिति के सदस्य ओव्हर डिस्टेंस का पालन करते स्टेशन चौक पर धरना प्रदर्शन करेंगे.|और दूसरे दिन वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से मुलाकात कर शहर में चल रहे अवैध कार्यों जानकारी के साथ एक ज्ञापन देगे|साथ ही जहां -जहां सट्टा पट्टी लिखी जाती है जहां गांजा और शराब बेचा जाता है उनकी वीडियो की सीडी भी सौपेगे ।

वर्जन

अगर तिल्दा में सट्टा जुआ चल रहा है तो गलत है..और शिकायत सही होगी तो मैं विश्वास दिलाता हूं कि इस कार्य में लिप्त लोगो पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी. शराब बेचने वालों पर भी पुलिस कार्रवाई करेगी..
जे पी एन सिंह. एडिशनल एसपी रायपुर

NEWS27_REPORTER

http://news27.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *