By।शिवचरण सिन्हा  

गुप्त नवरात्र

12 से 21 फरवरी तक गुप्त नवरात्र

दुर्गूकोंदल ।  ऋषियों का ‘यत पिंडे तत ब्रह्माण्डे’ कथन आध्य्यात्मिक दृष्टि से ही नहीं बल्कि वैज्ञानिक कसौटी पर भी हर पल शोध का विषय बना हुआ है । सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड अद्धभुत है तो मानव-शरीर भी रहस्यातीत है । ऋषियों ने कोटिसूर्य की बात कही तो मानव शरीर में भी अनन्त सूर्य सदृश तेज है जो सुषुप्त अवस्था में है, उसे ही जागृत करने के लिए योग, तप, साधना, व्रत, उपवास आदि के विधान किए गए।

वैदिक काल में संवत्सर की शुरुआत माघ शुक्ल प्रतिपदा से

वैदिक काल में वर्ष की शुरुआत चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा के बजाय माघ शुक्ल की प्रतिपदा से होती रही है । इसी अवधि में वसंत पंचमी पर मां सरस्वती की आराधना बौद्धिक धन की प्राप्ति के लिए की जाती रही है। माघ महीने में संगम स्नान के दौरान जुटे गुरुजन जनमानस में ज्ञान का प्रचार प्रसार करते रहे हैं । समाज संचालन में जैसे शासक एवं शासित होते हैं, उसी तरह ज्ञान के क्षेत्र में गुरू और शिष्य तथा लोकजीवन में पुरोहित एवं गृहस्थ की व्यवस्था बनी है । शक्ति-संचय का पर्व वर्ष में शारदीय एवं वासन्तिक नवरात्र विख्यात है । भगवान राम ने भी रावण से युद्ध के पूर्व मां दुर्गा से शक्ति पाने के लिए शरद-ऋतु में कठोर उपासना की थी । वैसे तो श्रीमद्देवीभागवत महापुराण में एक सौर वर्ष में 9 नवरात्र के पर्व का उल्लेख है । जिसमें शारदीय, वासन्तिक के अलावा आषाढ़, श्रावण (सावन), भाद्रपद, कार्तिक, मार्गशीर्ष (अग्रहायण), माघ एवं फाल्गुन शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से नवमी तिथि तक व्रत-उपवास के साथ मां दुर्गा से उपासक शक्ति प्राप्त करता है । इसे नवाह यज्ञ बताया गया है । ब्रह्मांड में विद्यमान शक्तिस्वरूपा मां दुर्गा से अनन्त ऊर्जा प्राप्त करने के अलावा नौ माह गर्भ में रखकर जन्म देने वाली मां के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करने का भी विधान परिलक्षित होता है । पुराणकारों का मानना है कि प्रचीनकाल में हमारे ऋषियो, मुनियों ने इस तरह के तप-बल से प्रकृति से संवाद किया और प्रकृति में व्याप्त रहस्यों को मानवकल्याण के लिए प्रकट किया । आज विज्ञान भी इन ऋषियों के ही ज्ञान को आधार बनाकर अनेकानेक खोज करने में सफल हुआ है ।


आंतरिक गुप्त शक्तियों के जागरण का काल


शारदीय एवं वासन्तिक नवरात्र जिसे प्रकट नवरात्र कहा जाता है,के अलावा आषाढ़ एवं माघ महीने में गुप्त नवरात्र का भी उल्लेख उक्त पुराण में है । प्रचलन के अनुसार गृहस्थों के कल्याण के लिए वैदिक विद्वान पूजा-अर्चना शारदीय नवरात्र में करते हैं । आहरण एवं वितरण के सिद्धांत के अनुसार वेद के ज्ञाता भी यदि मां दुर्गा की उपासना कर शक्ति संचय नहीं करेंगे तो उनका तेज- बल दिनोदिन कम होता जाएगा लिहाजा शारदीय एवं वासन्तिक नवरात्रों में अपने श्रद्धालुओं के लिए पूजन, अर्चन कर आशीष देने की सामर्थ्य पैदा करने के लिए वैदिकों, पुरोहितों, सन्तों, महात्माओं को गुप्त नवरात्र के अवसरों पर व्रत-उपवास तथा शक्ति-संचय का उपाय करना चाहिए जिससे वे अपने यजमानों (जो दान-दक्षिणा देकर पूजा कराता है) के लिए पूजा-पाठ और आशीर्वाद देने में समर्थ हो सकेंगे । इसी पुराण के 12वें स्कंध के 21वें श्लोक में भक्तों की चार श्रेणियां बतायी गयी । जिसे वैष्णव, शैव, सौर तथा गाणपत्य भक्त शामिल है । इन सभी लोगों को अपनी रुचि के अनुसार या समस्त नवरात्रों पर साधना करनी चाहिए । इस वर्ष माघ का यह गुप्त नवरात्र 10 दिवसीय है जो 12 फरवरी से 21 फरवरी तक रहेगा ।

NEWS27_REPORTER

http://news27.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *