By।शिवचरण सिन्हा

दुर्गुकोंडल 27 अप्रैल 2021। आज दिनांक 27 अप्रैल को ग्राम बांगा चार वाटिनटोला कोदापाखा सुखई के क्वॉरेंटाइन आइसोलेशन में रह रहे व्यक्तियों का स्वास्थ्य के बारे में जानकारी लेकर कोविड-19 में बचाव रोकथाम के लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए औषधि काढा का 15 दिनों के लिए वितरण कर जागरूकता का पापलेट वितरण कर जागरूक किया गया होम आइसोलेशन के तहत वह सावधानी के बारे में जानकारी दी गई आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर के वी गोपाल ने बताया है कि छत्तीसगढ़ के भाजी में अनेकों औषधि गुण भाजी के सेवन से बनेगा इनमिटी सिस्टम होगा कोरोना भाजी में सबसे ज्यादा रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की भरपूर शक्ति होती है वर्तमान में कोरोना संकटकाल में कोरोना के संदेही मरीजों एवं आम नागरिकों को अधिक से अधिक भाजी सेवन करने की सलाह दी जाती है तथा क्वॉरेंटाइन केंद्र आइसोलेशन में रह रहे व्यक्तियों को एक टाइम भाजी खिलाने की सलाह दी जाती है और उनको वही व्यक्ति बिना दवाई केरह सकता है जिनकी यूनिटी सिस्टम काफी मजबूत हो तथा ऐसे व्यक्तियों को कोरोना खतरा हो सकती है हमारे छत्तीसगढ़ में अनेकों प्रकार के स्वादिष्ट भाजी पाया जाता है जिस को नियमित रूप से सेवन कर आप अपनी इनमिटी सिस्टम मजबूत कर सकते हैं ग्रामीण क्षेत्रों में तेच भाजी कर्मताता भाजी चौलाई भाजी कुसुम भाजी पोई भाजी चरोटा भाजी कोचाई पत्ता सुनसुनिया चुनचुनिया मुनगा भाजी को बड़ी चाव से खाया जाता है भाजी में आयरन प्रोटीन कार्बोहाइड्रेट सहित विभिन्न पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में पाई जाती है इन भाजी में औषधि युक्त भी पाया जाता है अंता इनके सेवन से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है भाजी ग्रामीण क्षेत्रों में सरल सहज एवं सस्ती रूप से उपलब्ध हो जाती है सौ ग्राम मुनगा भाजी में पांच गिलास दूध इतनी ताकतवर विटामिन सी संतरे में 7 गुना विटामिन के गाजर में 4 गुना कैल्शियम दूध में 4 गुना पोटेशियम केले में 3 गुना प्रोटीन दही की तुलना में 3 गुना होती है हरी साग सब्जी प्रचुर मात्रा में अपने आहार में ताजा मौसमी फल खाएं सुबह शाम को हल्दी पानी दूध का सेवन करें प्रोटीन की पूर्ति हेतु छिलके वाली दालों का सेवन लाभदायक है भोजन निर्माण में गर्म मसालों के रूप में लहसुन हल्दी अदरक जीरा धनिया का प्रयोग करें नींबू काली मिर्च लौंग इलायची रोज का किसी न किसी रूप में नियमित प्रयोग करें वर्तमान में वैश्विक महामारी कोरोना का आतंक है इससे बचने के उपाय के साथ खानपान पर भी ध्यान रखने की आवश्यकता है ताकि हमारी इनमिटी रोग प्रतिरोधक क्षमता बनी रहे और हम शारीरिक मानसिक रूप से स्वस्थ रहें इनमिटी पावर जितना ज्यादा स्ट्राइग होगा उतना ज्यादा बीमारी फैलने वाले वायरस बैक्टीरिया आदि स्वास्थ्य शरीर को क्षति नहीं पहुंचा सकते अथवा संक्रमण प्रभावी रहेगा जागरूकता कार्यक्रम में आयुर्वेदिक औषधालय कोदापाखा के कर्मचारी कुमारी सविता कोमरे सोनाराम नेताम जगदीश मरकाम का सक्रिय सहयोग रहा इस अवसर पर आयनु धुव प्रदीप बघेल रोजगार सहायक नंदकुमार उपसरपंच बागा चार उपस्थित थे ।

NEWS27_REPORTER

http://news27.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *