दुर्गुकोंदल:  जवानों के माथे पर तिलक  हाथों  में राखी सजी

By। शिवचरण सिन्हा

दुर्गुकोंदल। रक्षाबंधन में जवानों के नम आंखों चेहरों पर मुस्कुराहट, माथे पर तिलक का तेज और हाथों में राखी सजी । हजारों किमी. दूर रहने वाली बहन की कमी को रक्षाबंधन के अवसर पर पूरा होता देख 167 वी बटालियन के अधिकारी व जवान भावुक हो उठे। अवसर था दिनाँक 22अगस्त 2021 को भाजपा महिला मोर्चा के अगुवाई पर पतंजलि योग समिति व पतंजलि महिला योग समिति दुर्गुकोंदल के पदाधिकारी व सदस्यगण रक्षाबंधन पर्व पर 167वी बटालियन के अधिकारी व कार्मिकों को रक्षा सूत्र बांधने का। महिला मोर्चा जिला उपाध्यक्ष शकुंतला नरेटी,ब्लाॅक अध्यक्ष बसंती यादव,पतंजलि महिला योग समिति से बांगोमा रानी चक्रवर्ती,रीता वस्त्रकार अध्यक्ष आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका संघ,उत्तरा वस्त्रकार ,संजय वस्त्रकार पतंजलि खंड प्रमुख आदि की अगुवाई में 167 वी बटालियन दुर्गुकोंदल परिसर में समारोह आयोजित किया गया। समारोह में बड़ी तादाद में 167 वी बटालियन के अधिकारी,अधीनस्थ अधिकारी व कार्मिक शामिल हुए। शकुंतला नरेटी,बसंती यादव रीता वस्त्रकार, उत्तरा वस्त्रकार,उर्मिला टेकाम,गीता दुग्गा, रंजना दुग्गा,उज्जवी वस्त्रकार सहित बड़ी तादाद में उपस्थित महिलाओं ने अधिकारियों,अधीनस्थ अधिकारियों व जवानों का थाल सजाकर आरती उतारी,टीका लगाया फिर कलाइयों पर राखी बांधी,मिठाई खिलाये अधिकारी व अन्य कार्मिकों भी शगुन देने में पीछे नही रहे।भाई बहन के प्यार का प्रतीक पर्व रक्षाबंधन उल्लासमय ,प्यारभरा हो गया। इस मौके पर देवेंन्द्र टेकाम जनपद सदस्य सहित अन्य लोग भी उपस्थित थे।
इस अवसर पर श्री मयंक उपाध्याय कमांडेंट 167 वी बटालियन सीमा सुरक्षा बल ने कहा की सैनिकों की बहनें हमेशा हजारों किमी की दूरी पर होती हैं, लेकिन जब कोई हमारे भी मर्म को समझकर उस कमी को पूरी कर देता है, तो हमारे बाजुओं की ताकत और बढ़ जाती है। यह रक्षा का संकल्प केवल कलाई पर राखी बांधने वाली बहनों का नहीं बल्कि पूरे भारत वर्ष की बहनों की रक्षा का संकल्प है।इस स्नेह से हमारी ताकत दुगनी हो जाती है।
इस कार्यक्रम में 167वी बटालियन सीमा सुरक्षा बक के कमांडेंट मयंक उपाध्याय, श्री रोहित तिवारी उप समादेष्टा, डॉ लिटन विश्वास एसी/ एमओ व काफी संख्या में अधीनस्थ अधिकारी व जवान उपस्थित थे।

NEWS27_REPORTER

http://news27.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *