माताओं ने व्रत रखकर,बच्चों के दीर्घायु होने की कामना


राजिम।राजिम के समीपवर्ती गाँव दूतकैंया, (खपरी)में कमरछठ तिहार बड़े ही धूमधाम से मनाया गया,संतानों के दीर्घायु की कामना लिए माताओं के द्वारा यह व्रत प्रतिवर्ष भाद्रपद मास कृष्ण पक्ष षष्ठी को भगवान बलराम जी के जन्मदिन के अवसर पर रखा जाता है। आज माताओं ने नए नए कपड़े पहन कर ठाकुर दिया चौक में सगरी बनाकर, जल चढ़ाकर, नारियल, धूप बत्ती, लाई,एवम पसहेर चांवल के परसाद चढ़ाकर सगरी पूजा किया, ततपश्चात कमरछठ महिमा के रूप में हलषष्ठी के छः कहानियों का रसपान किया ।ततपश्चात, प्रसाद बाँटा गया,फिर अपने अपने घर पहुँचकर अपने बेटी बेटियों को पिंवरी छुही का पोता लगाकर बुरी नजर से बचाने का उपाय किया।कमरछठ तिहार के बारे में पूछने पर श्री मती अम्बिका यादव ने बताया कि,इस संबंध में लोकमान्यता है कि आज ही के दिन माँ देवकी ने कंस के कारागार में रहकर सर्वप्रथम यह व्रत किया था,जिसके वरदान स्वरूप भगवान श्री कृष्ण एवम बलदाऊ भैया का जन्म हुआ था।

इस बारे में चर्चा करने पर प्रीत बाई साहू, ने बताया कि आज के दिन छः प्रकार के अनाज,जैसे पसहेर चाऊंर, लाई,महुआ, चना ,भैस के दूध, दही,घी एवम बिना हल जुते हुए छः प्रकार के भाजियों के द्वारा भगवान भोलेनाथ की पूजा की जाती है।आगे बताते हुए श्रीमती बिमला साहू ने बताया कि, आज के दिन सगरी खोदकर, काशी,चिरैया, बेलपत्र, और अन्य पुष्पों से इसे सजाया जाता है।श्रीमती गायत्री यादव एवम चमेली साहू ने बताया कि आज के दिन शिव,पार्वती, गणेश,कार्तिकेय, शेषनाग एवम नंदी की पूजा की जाती हैआज के दिन हलषष्ठी व्रत के छः कहानी कहना एवम सुनना बहुत ही फलकारक होता है।और बच्चों के दीर्घायु एवम यशस्वी जीवन की कामना की जाती है।सगरी पूजा के इस अवसर पर अनुराधा साहू, अनन्पूर्णा साहू, जामवंती साहू, उत्तरा साहू, रूखमणी साहू, राधा साहू,लेकिन साहू,सोना यादव, इंदिरा यादव, जामबाई,रामबाई, धनेश्वरी साहू, एवम गांव की सभी माता बहनें एवम गांव के प्रबुद्ध नागरिक, बाल गोपाल उपस्थित रहे।

NEWS27_REPORTER

http://news27.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *