रायपुर। छत्तीसगढ़ अंशदायी पेंशन कर्मचारी कल्याण संघ की प्रदेश-स्तरीय बैठक 29 अगस्त रविवार को कर्मचारी भवन,सप्रे शाला परिसर में सम्पन्न हुई। बैठक में एजेंडा अनुसार निम्नांकित बिंदुओं पर चर्चा-परिचर्चा कर सहमति बनाई गई।
【1】 संघ द्वारा आगामी 4 अक्टूबर 2021 को प्रस्तावित/विचाराधीन एक दिवसीय धरना-प्रदर्शन,रैली के कार्यक्रम को वर्तमान में स्थगित कर नवम्बर-दिसम्बर माह में करने पर विचार किया गया।
कारण–उक्क्त कार्यक्रम हेतु अभी हमे धरातल-स्तर पर और भी मजबूत होने की आवश्यकता है। साथ ही हमारे अधिकार और जायज मांग के संदर्भ में शासन का ध्यान आकृष्ट कराने एक डेलिगेशन/प्रतिनिधिमंडल द्वारा एक सार्थक प्रयास आवश्यक है।
विभिन्न कर्मचारी-संघो से चर्चा उपरांत, और हमारे साथ जुड़ने और सहयोग की अपेक्षा के साथ ही हम अपने आंदोलन में सफल हो सकते हैं। इस हेतु भी अभी काफी कार्य किया जाना है। इन्ही कारणों को दृष्टिगत करते हुए अक्टूबर में प्रस्तावित धरना-प्रदर्शन कार्यक्रम को नवम्बर-दिसम्बर में करने हेतु सकारात्मक विचार किया गया।
【2】 कर्मचारी-अधिकारी फेडरेशन द्वारा एक दिवसीय जिलास्तरीय धरना-प्रदर्शन कार्यक्रम 3 सितंबर शुक्रवार को आयोजित होना है। उक्क्त कार्यक्रम में हमें अपने संघठन के बैनरतले अपनी उपस्थिति अवश्य ही दर्ज करानी है। संघ के द्वारा समस्त जिलाध्यक्षों से अपेक्षा की गई है कि अपने पेंशनविहीन साथियों के साथ उक्क्त कार्यक्रम में उपस्थित होकर पुरानी पेंशन की बहाली हेतु संघ की योजना और अब तक किये गए कार्य पर अपना व्यक्तव्य अवश्य देंगे।
【3】 सहायक शिक्षक फेडरेशन के द्वारा 5 सितम्बर को शिक्षक-दिवस के दिन आयोजित अधिकार-रैली में हमारा संघ अपना समर्थन देते हुए अपनी उपस्थिति दर्ज कराएगा। संघ पेंशनविहीन साथियों से अपील करता है कि उक्त कार्यक्रम में उपस्थित होकर सहयोग प्रदान करें।
【4】 प्रत्येक जिले में ओपीएस जागरूकता कार्यक्रम-संगोष्ठी का आयोजन आवश्यक।
12 सितम्बर रविवार से प्रारम्भ कर प्रत्येक रविवार को कम से कम 4 जिलों में NPS & OPS का तुलनात्मक विश्लेषण और मिशन ओपीएस फ़तह कैसे करें-हमारी जिम्मेदारी & कर्तव्य पर प्रत्येक जिला -मुख्यालय में प्रांतीय-पदाधिकारी के सहयोग & उपस्थिति में एक दिवसीय ओपीएस-संगोष्ठी कार्यक्रम आयोजित किया जाना है। उद्देश्य मात्र यही है कि सुप्तावस्था में पड़े हमारे साथियो को जागरूक करना,और संगठन के कार्यों में सहभागी बनाना है।
समस्त जिलाध्यक्षों से निवेदन-सह-अपेक्षा की जाती है कि वे अपने जिले में उक्क्त कार्यक्रम की तिथि यथाशीघ्र निर्धारित कर स्टेट-ग्रुप में सूचना अवश्य ही दे। इस तरह से कम समय मे हम समस्त जिलों में ज्यादा से ज्यादा लोगों को जागरूक कर संघठन की मुख्यधारा से जोड़ पाएंगे। उक्क्त जिला-स्तरीय संगोष्ठी के उपरांत ब्लॉक-स्तरीय संगोष्ठी करने पर भी आज की मीटिंग में चर्चा की गई।
【5】 नवम्बर-दिसम्बर माह में विचाराधीन प्रस्तावित प्रदेश-स्तरीय धरना-प्रदर्शन कार्यक्रम के पूर्व हमारे संघठन को अपनी एकजुटता प्रदर्शित करनी होगी। विकासखण्ड स्तर पर कार्यकारिणी बनाये जाना नितांत आवश्यक है। विभिन्न कर्मचारी-संघठनो से संवाद कर ओपीएस बहाली हेतु हमारे मिशन में सहयोग हेतु उन्हें जोड़ना,सदस्यता-अभियान नियमित चलाये जाने,एवम प्रदेश-स्तरीय कार्यक्रम हेतु संघठन की आर्थिक स्थिति बेहद मजबूत करने पर आज की मीटिंग में व्यापक चर्चा हुई।


प्रदेश-स्तरीय बैठक में श्री महेश ठाकुर ,(शासकीय वाहन-चालक संघ के प्रदेश अध्यक्ष),श्री राकेश सिंह ,प्रदेशाध्यक्ष (छत्तीसगढ़ अंशदायी पेंशन कर्मचारी कल्याण संघ,NMOPS),डॉक्टर रोशन भारद्वाज,कोषाध्यक्ष, श्री विश्वजीत होराडे वरिष्ठ मार्गदर्शक , सलाहकार,श्रीमती ज्योति राठौर,संयोजक,महिला एवं बालविकास विभाग,श्री महेंद्र साहू ,जिलाध्यक्ष-धमतरी,रमेश कुमार नेगी, जिलाध्यक्ष-बलौदाबाजार, श्री रितेश सिंह राजपूत CSEB विभाग,श्री राजू दास (कृषि विभाग)श्री लक्ष्मीनारायण ध्रुव ( शिक्षा-विभाग).श्री श्याम कुमार सोने PHE बेमेतरा,उत्तम कुमार PHE बेमेतरा,सीएम तिवारी,उमाशंकर वर्मा,सुरेंद्र रगड़ाले,राधेश्याम गोयल उपस्थित हुए।

NEWS27_REPORTER

http://news27.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *