By।शिवचरण सिन्हा

दुर्गुकोंडल 5 सितंबर 2021 भारत में 5 सितंबर का दिन शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। साल 1962 में इस दिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाने की शुरुआत हुई थी। यह शिक्षकों और मार्गदर्शकों का त्योहार है। भारत के दूसरे राष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती को शिक्षकों के लिए समर्पित किया गया है। इस दिन, शिक्षक और छात्र शैक्षणिक संस्थानों में उत्सव, धन्यवाद और स्मरण की गतिविधियों में शामिल होने के लिए इकट्ठा होते हैं। कुछ स्कूलों में, वरिष्ठ छात्र शिक्षकों की भूमिका निभाते हैं और छोटे छात्रों को शिक्षकों के लिए प्रशंसा और सम्मान के प्रतीक के रूप में पढ़ाते है
सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म सर्वपल्ली वीरस्वामी और सर्वपल्ली सीता के यहां एक तेलुगु भाषी ब्राह्मण हिंदू परिवार में हुआ था। उस समय उनका घर मद्रास प्रेसीडेंसी के तिरुत्तानी में था। राधाकृष्णन ने भारत के पहले उपराष्ट्रपति के रूप में कार्य किया। वो धर्म और दर्शन के भारत के सबसे प्रतिष्ठित विद्वानों में से एक थे। उनका मानना ​​​​था कि “देश के सबसे अच्छे लोगों को शिक्षण का कार्य करना चाहिए”।


डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने हासिल किए कई सम्मान


अपने पूरे शैक्षणिक और राजनीतिक जीवन के दौरान, उन्होंने कई पुरस्कार प्राप्त किए, जिसमें 1931 में नाइटहुड, 1954 में भारत रत्न और 1963 में ब्रिटिश रॉयल ऑर्डर ऑफ मेरिट की मानद सदस्यता शामिल है। डॉ. राधाकृष्णन भारत में बुजुर्गों के लिए बनाए गए NGO हेल्पेज इंडिया के संस्थापकों में से एक थे। जब वे भारत के राष्ट्रपति बने, तो उनके कुछ छात्रों ने उनसे 5 सितंबर को अपना जन्मदिन मनाने की अनुमति देने का अनुरोध किया। इसके जवाब में उन्होंने कहा, “मेरा जन्मदिन मनाने के बजाय, 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाए। यह मेरे लिए गर्व की बात होगी कि। इसी के बाद से उनके जन्मदिन को भारत में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है।

NEWS27_REPORTER

http://news27.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *