विप्र स्वास्थ्य सेवा संगठन के  चिकित्सा शिविर में ग्रामीणजनो को मिला स्वास्थ्य लाभ

छत्तीसगढ़

रायपुर।विप्र स्वास्थ्यसेवा संगठन ने भाटापारा के सिंगारपुर स्थित प्रसिद्ध मावली माता मंदिर प्रांगण में मन्दिर समिति के साथ मिलकर एकदिवसीय चिकित्सा शिविर का आयोजन किया। मंदिर समिति के आमंत्रण पर इस ग्रामीण क्षेत्र में नशा तथा अन्य स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं को देखते हुए विप्र स्वास्थ्यसेवा संगठन ने अपने चिकित्सा दल के विभिन्न विशेषज्ञ चिकित्सको, जागरूकता विशेषज्ञ व विभिन्न स्वास्थ्य परीक्षण दलों के साथ मावली माता मंदिर प्रांगण में विशाल स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया। शिविर के अंतर्गत संगठन के नशामुक्ति विशेषज्ञ श्री अशोक शर्मा ने 80 लोगों को नशामुक्त होने के लिए आसान और सुलभ टिप्स बताये, साथ ही कुछ दवाये भी उपलब्ध कराई गई। वहीं राज्य सिकलसेल अनुसंधान केंद्र रायपुर की टीम द्वारा 81 लोगो की सिकलसेल जांच की गई जिनमे 13 मरीज पोसिटिव पाए गए जिनका ब्लड सेम्पल लिया गया तथा एलेक्टोपोरिसिस जांच की जाएगी। शिविर में आंखों की जांच के लिए आधुनिक मशीन के साथ तकनिशियनो ने 120 व्यक्तियों का नेत्र परीक्षण किया। वही शिविर में आये सभी व्यक्तियों का रक्ताल्पता परीक्षण किया गया व ब्लड प्रेशर तथा सुगर की जांच की गई। क्षेत्र के ग्रामीणजन स्वाईन फ्लू और चिकनपॉक्स के प्रति रुचिपूर्वक जानकारियां लेते हुए निषुल्क होमियोपैथिक दवाइयों पाकर लाभान्वित हुए।
इस ग्रामीण क्षेत्र में विशेषज्ञ चिकित्सकों का अभाव के चलते संगठन ने रायपुर और बलौदाबाजार से चिकित्सक बुलाये थे, जिनमे रायपुर के लोटस हॉस्पिटल के यूरोलॉजी विशेषज्ञ डॉ तुषार एवम श्री संकल्प हॉस्पिटल सरोना के अस्थिरोग विशेषज्ञ डॉ श्री शैलेन्द्र उपाध्याय, स्त्रीरोग विशेषज्ञ डॉ पूजा उपाध्याय के साथ नेफ्रोलॉजिस्ट डॉ पी एल देबता, मेडिसिन चिकित्सक डॉ राजकुमार बरनवाल बलौदाबाजार से अपनी सेवाएं देने उपस्थित रहे। वही संगठन के होमियोपैथी चिकित्सक डॉ शोभित वर्मा ने सैकड़ो की संख्या में जटिल बीमारियों की चिकित्सा की।
विप्र स्वास्थ्य सेवा संगठन के प्रदेश अध्यक्ष डॉ सतीश दीवान और संगठन की फाउंडर श्रीमती शारदा गौराहा के साथ संगठन परिवार की श्रीमती मिथिलेश रिछारिया, सरिता पाठक, सायरा खान और सरला तिवारी ने शिविर के दौरान महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। भाटापारा के बीएमओ डॉ अवस्थी के साथ वरिष्ठ चिकित्सक डॉ ठाकुर ने भी शिविर के दौरान लोगो का उपचार किया। डॉ अवस्थी ने बताया कि छत्तीसगढ़ स्वास्थ्य विभाग द्वारा राज्य के सभी शासकीय अस्पतालों में प्रत्येक व्यक्ति के लिए ब्लड प्रेशर और सुगर की जांच तथा दवाइया निशुल्क उपलब्ध कराई जाती हैं, इसका लाभ उठाने के लिए शिविर के दौरान लोगों को प्रेरित किया गया।
शिविर के अंत मे मन्दिर समिति ने विप्र स्वास्थ्यसेवा संगठन तथा सभी उपस्थित चिकित्सको व कार्यकर्ताओं को धन्यवाद देते हुए मावली माता की प्रतिमा के रूप में स्मृति चिन्ह व मंदिर का प्रसाद भेंट की। इस अवसर पर विप्र स्वास्थ्यसेवा संगठन के प्रदेश अध्यक्ष डॉ सतीश दीवान ने आयोजको से स्वास्थ्य शिविर के दौरान स्वास्थ्य जागरूकता हेतु विशेष प्रयास करने का आह्वान किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *