जशपुर जिला अस्पताल में मरीजों को परोसा जा रहा अधपका भोजन, सवाल उठाने पर अटेंडर की पिटाई

  • मरीजों के अटेंडरों में भय का माहौल…

  • भोजन आपूर्ति ठेकेदार के नियुक्त व्यक्तियों की दादागिरी …

जशपुर। राजा देवशरण सिंह जिला चिकित्सालय में अधपका भोजन परोसने का मामला सामने आया है। गुणवत्ता सुधार की बात कहने पर अटेंडर की पिटाई 23 नवंबर शाम को कर दी गई। परिजनों का आरोप है कि भोजन आपूर्ति ठेकेदार के नियुक्त व्यक्तियों ने सामूहिक रूप से हमला कर मारपीट किया जिससे मरीजों के अटेंडरों में भय का माहौल है।
बेहतर सुविधा की उम्मीद से लोग खाने का इंतजाम भोजन व्यस्थापकों पर छोड़ देते है पर यहां सब कुछ गड़बड़ है। यहां भोजन व्यवस्था के नाम पर लोगों को ठगा जा रहा है और अस्पताल प्रशासन आंखे मुंदी है। अस्पातल में भोजन आपूर्ति ठेकेदार का गुंडाराज चल रहा है। ठेकेदारों का कहना है जैसा भोजन मिले वैसा खाए। सरकारी है, फ्री में मिल रहा है। जो मिला खा लिजिए, नहीं तो भूखे रहेंगे। यदि भोजन की गुणवत्ता के खिलाफ जुबान खोला तो पीटे जाएंगे। ऐसा ही अटेंडर धरमदीप के साथ हुआ। लगातार अधपका भोजन परोसने पर उसने भोजन व्यस्थापकों से गुणवत्ता सुधार की बात कही, इसलिए उस पर हमला कर मारपीट करवाया गया। उसके सिर और चहरे पर चोट लगी । पीड़ित ने इसकी शिकायत थाने में दर्ज की है। पुलिस ने उसका मुलाहिजा जांच कराया है। पूरा मामला गुणवत्ता विहीन भोजन परोसने के कारण हुआ।
दरअसल धरमदीप के पिता काफी दिनों से बीमार चल रहे है। उनकी देखभाल धरमदीप कर रहे है। वह जशपुर जिला चिकित्सालय के आईसीयु वार्ड में भर्ती है। अस्पताल में गुणवत्ता विहीन अधपका भोजन परोसे जाने को लेकर भोजन परोसने वाले और धरमदीप के बीच कहासुनी हुई। इसी बात पर भोजन आपूर्ति ठेकेदार के नियुक्त व्यक्तियों ने सामूहिक रूप से हमला करते हुुए मारपीट कर अटेंडर धर्मजीत को जमीन पर पटका। वहां लोगों ने बीच-बचाव करते हुए धर्मजीत को बचाया।
वहीं मौके पर मौजूद प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि भोजन आपूर्ति ठेकेदार से मिले कमलकांत सिंह कियोस्क आयुष्मान भारत योजना के ऑपरेटर ने अटेंडेड के पिता को धमकी देते हुआ कहा तुम्हारे पिताजी को रेफर करा देंगे। जबकि उनको अस्पताल में कार्यरत होने के नाते मरीजों के प्रति हमदर्द होना चाहिए। अस्पताल में मरीजों के साथ रहने वाले अटेंडरों की सुरक्षा की जिम्मेदारी अस्पताल प्रशासन का है। अगर ऐसा ही हाल रहा तो जिला अस्पताल के शरण में मरीजों के साथ अटेंडर जाने से डरेंगे।

इस मामले को लेकर मैं देखता हूं।


लक्ष्मण ध्रुव टी आई सिटी कोतवाली जशपुर

मारपीट करने वाले ठेकेदार के आदमी है उनको बुलाए है, अभी तक नहीं आए हैं, कार्यवाही होगी।

आर .एन केरकेट्टा
सिविल सर्जन सह अस्पताल अधीक्षक जशपुर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *