दुर्गुकोंडल :पुरातात्विक अभिलेखीकरण दस पाषाण कालीन स्थान दुर्लभ गुफा के रूप में शोध दल को मिला

By।शिवचरण सिन्हा

दुर्गुकोंडल 6 दिसंबर । विकास खण्ड दुर्गुकोंडल बस्तर संभाग अन्तर्गत पुरातात्विक अभिलेखीकरण दस पासाण कालीन स्थान दुर्लभ गुफा के रूप में शोध दल को मिला । जिसकी उचाई 200 मीटर पहाड़ी पर है जहाँ पत्थर से बना भूतल से लगभग दो कोष मंजील है निचला मंजील में छोड़ा बांधकर पड्यार (क्षत्रीय) उपर संजील, पर सोने. दूल देखने मिला बोदेली गांव का पुजारी के रूप में तुलावी का शोध गोत्र जो गोड जनजातीय तुलावी वंश का एक पूर्वज ने एक आम का पेड़ लगाया जिसका डोडरी आम के नाम से जाना जाता है जिसका उंचाई 15 फीट के जनश्रुति के आधार से साधु तुलावी ने जानकारी दिया।
शोध दल के नेतृत्व कर्ता गोड़ी भाषा के धर्माचार्य शेर सिंह आचला समाज प्रमुख सुकलाल नाग, कमल सिंह कोराम चैन सिंह मेरसिह, धरम सिंह नेरेटी
शोध कार्य के नोडल अधिकारी बैजनाथ नेरेटी अभिोलीकरण दल भारत भंडारी, धनाजी नरेटी, निर्भय कोवाची आदि उपस्थित थे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *