दुर्गूकोंदल : बैंक में केसीसी लोन दिलाने का झांसा देकर पैसे हजम करने वाले चार दलाल गिरफ्तार

By।शिवचरण सिन्हा

दुर्गूकोंदल। भारतीय स्टेट बैंक दुर्गूकोंदल में केसीसी लोन दिलाने की झांसा देकर पैसे हजम करने वाले चार दलालों को दुर्गूकोंदल पुलिस ने गिरफ्तार न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया है। दलाली के आरोप शंकर दीवान दुर्गूकोंदल, रामजी बोगा दरगढ़, सियालाल तुलावी दोड़दे, संपत गुमड़ी निवासी को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर जेल भेजा गया है। गिरफ्तार आरोपियों की बयान अनुसार अन्य आरोपियों की तलाश दुर्गूकोंदल पुलिस कर रही है। थाना प्रभारी सुशील पटेल ने बताया कि सन् 2016में 9किसानों से केसीसी ऋण में 10लाख हजम करने के मामले में आरोपी शंकर दीवान, दयालाल तुलावी, रामजी बोगा, संपत किसानों से केसीसी ऋण लेने के लिए संपर्क करते थे। और उनके दस्तावेज लेकर मनमाफिक ऋण स्वीकृत कराते थे। जब ऋण वसूली की नोटिस आई तो किसान रकम देखकर हैरान हो गये और मामला पुलिस तक पहुंचा। प्रार्थी शेरसिंह गावड़े की लिखित सूचना पर पुलिस ने 2017में एफआईआर दर्ज किया था, पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि बैंककर्मियों से मिलकर केसीसी ऋण लेने वालों से संपर्क करते थे। और ऋण लेने वालों से सिर्फ जमीन का पट्टा, फोटो लेते थे, जबकि सम्पूर्ण दस्तावेज बैंककर्मी और बैंक के दलाल मिलकर पूरा करते थे। किसान को पैसे की जरूरत होने पर बैंक से बाहर निकासी पर्ची हस्ताक्षर करवाकर राशि खुद दलाल लिखते थे। जितनी राशि किसान को जरूरत है, उतनी राशि किसान को थमाकर शेष राशि कैशियर, फायनेंसर और दलाल मिलकर बांट लेते थे। इस तरह दलाल और बैंककर्मियों की झांसे में किसान फंस गये।

वसूली नोटिस से हुई खुलासा

किसानों को पता नहीं था, कि हमारे लिये लोन दिलाने वाले हमारे मसीहा नहीं, बल्कि बैंक के दलाल हैं। दलालों ने किसानों को इतनी सुविधा दिया, कि इन्हें राशि आहरण करने के लिए कैश काउंटर में खड़े होने की जरूरत नहीं पड़ी। लेकिन वसूली की नोटिस मिलने पर किसानों के होश उड़ गये। नोटिस में जितनी लोन लेने के लिए दलालों को किसान बताये थे, उससे दुगुनी राशि का ऋण बैंक में दलालों ने स्वीकृत कराई थी। किसान जब दलालों से पूछने की कोशिश किया। तो संतुष्ट जनक जवाब नहीं मिला। और मामला पुलिस तक पहुंचा। —-किसानों की शिकायत पर विधायक और

कांग्रेसियों ने किया बैंक का घेराव

अपने नाम पर फर्जी तरीके से दुगुनी केसीसी ऋण राशि स्वीकृति होने की जानकारी मिली तो हैरान किसानों ने विधायक मनोजसिंह मंडावी से संपर्क कर न्याय दिलाने की गुहार लगाई। विधायक मनोज मंडावी ने किसानों की मांगों को गंभीरता से लेते हुए ब्लाक कांग्रेस कमेटी दुर्गूकोंदल के कार्यकर्ताओं के साथ स्टेट बैंक दुर्गूकोंदल का घेराव कर केसीसी ऋण मामले में दलाली करने वाले अधिकारी और दलालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग किया था। इसी दौरान विधायक के दबाव के चलते दुर्गूकोंदल पुलिस ने एफआईआर दर्ज किया था। लेकिन दुर्गूकोंदल पुलिस पांच वर्ष बाद चार आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा है। आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 419, 420, 424, 120बी पुलिस थाने में दर्ज है, दुर्गूकोंदल पुलिस आरोपियों के बयान के अनुसार अन्य आरोपियों की पता तलाश शुरू कर दिया है। थाना प्रभारी सुशील पटेल ने कहा कि केसीसी ऋण की दलाली मामले में अन्य आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *