कोई चमत्कार नहीं , हाथों की सफाई से कमाई : प्रो. मुंडे

रायपुर। एंटी सुपरस्टीशन ऑर्गेनाइजेशन (एएसओ) का
दो दिवसीय अंधविश्वास उन्मूलन कार्यक्रम के अंतिम दिन बुधवार को नवा रायपुर स्थित ग्राम बिरबिरा में समापन हुआ।
कार्यक्रम में मुख्य वक्ता महाराष्ट्र अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति के प्रमुख वक्ता प्रो. मछिन्द्रनाथ मुंडे और समिति की सचिव सुशीला मुंडे शामिल हुई।
प्रो. मुंडे ने ने बताया कि आज जिस तरह से चमत्कारी बाबा ने भोले-भाले जनता को किस तरह से अपने जाल में फंसाते हैं। उसके बारे में हमें जानने की आवश्कता है। पाखंडी बाबा सिर्फ अपनी जेब भरने वाले होते हैं। इसकी करनी और कथनी में अंतर है। इन बाबाओं से बचने की जरूरत है और लोगों को समझाने की जरूरत है। तभी एक अच्छे समाज की कल्पना कर सकते हैं।
उन्होंने कहा कि पाखंडी बाबा किसी चमत्कार दिखाने का दावा करते हैं, लेकिन असलियत में यह नहीं होता है। बल्कि आपको गुमराह करने की कोशिश होती है। इसको हमें समझने की सख्त जरूरत है। क्योंकि आज तक दुनिया में कोई मरा हुआ व्यक्ति को जीवित नहीं कर सका है। उन्होंने कहा कि कोई पाखंडी बाबा चमत्कार नहीं करते बल्कि भक्तों को वह काम देते हैं। इन बाबाओं से बचने के लिए पहले समूह पर चर्चा करने की आवश्यकता है। इसके अलावा पुलिस, प्रशासन आदि को ध्यानाकर्षण कराने की जरूरत होती है। उन्होंने बाबागिरी का मुकाबला कैसे करें इसके बारे में भी बताया। उन्होंने कहा कि हमें पहले तो स्वास्थ्य, कानून और काउंसलिंग करने की आवश्यकता है। उन्होंने ये भी कहा कि कई पाखंडी बाबाओं के पास बचने के लिए राजनीतिक हस्तक्षेप होता है। इसको सोशल मीडिया में वायरल कर पर्दाफाश करने की आवश्यकता है।

ज्योतिष कमाई के लिए ग्रह-नक्षत्रों का सहारा लेते हैं

प्रोफेसर मुंडे ने राशिफल और ज्योतिष शास्त्र को पूरी तरह से असत्य बताया उन्होंने कहा कि ज्योतिष कमाई के लिए ग्रह-नक्षत्रों का सहारा लेते हैं और गलत जानकारियां लोगों तक पहुंचाते हैं, जिसका विरोध किया जाना चाहिए।

प्रो. मुंडे ने हाथों की सफाई से एक चम्मच को मोड़ते हुए नीचे गिरा दिया। इसी तरह कैलेंडर में शॉर्ट कट से गुणा भाग करने का तरीका बताया। इसके अलावा उन्होंने ज्योतिष गणना खेल का पर्दाफाश किया। उन्होंने बताया कि किस तरह के आकार बना कर लोगों को समझाने के लिए वह अपने तरीके अपनाते हैं। इसके बाद वह पूछते हैं कि आपका जन्म किस समय हुआ। उसके आधार पर लोगों का भविष्य बताते हैं। जबकि आज दुनिया में अधिकांश देशों में भारत में करीब 12:00 बज रहे है तो अन्य देशों में यही समय दोपहर 3:04 बजते हैं।
प्रो. मुंडे ने बेल्ट से एक उंगली में लोहे को उठाकर सब को दिखाया कि किस प्रकार पाखंडी बाबा लोगों को बेवकूफ बनाते हैं। उन्होंने बिना माचिस के नारियल में आग लगाकर बताया। साथ ही नारियल के अंदर रखें रंगीन कपड़ों के टुकड़े को निकाल कर बताया। प्रोफेसर मुंडे ने पानी से दिया जलाकर सबको चौंका दिया। दरअसल पानी में केमिकल मिलाकर उसमें आग लगाई। साथ ही पानी से चना बना कर सबको चौंका दिया।
सुशीला मुंडे ने संगठन निर्माण और पदाधिकारियों की भूमिका को लेकर जानकारियां साझा की। उन्होंने अंधविश्वास को मिटाने के लिए युवाओं से एंटी सुपरस्टेशन आर्गेनाइजेशन के जरिए स्वच्छ समाज बनाने के लिए आह्वान किया। कार्यक्रम के समापन अवसर पर एएसओ के उपाध्यक्ष गौरव प्रसाद ने आभार व्यक्त किया।

कार्यक्रम में एएसओ के अध्यक्ष टिकेश कुमार, उपाध्यक्ष गौरव प्रसाद, कोषाध्यक्ष राजू कुमार, सचिव जितेंद्र, मीडिया सलाहकार वाकेश कुमार, सांगठनिक सलाहकार गनपत लाल, मोती लाल, अनुसुइया, सत्तू राम, शिव साहू, भूखेंद्र, मोहन साहू, तोमन साहू, रोशन साहू, लिक्कू साहू, हीरा लाल और बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *