हरियाणा में बंधक बनाये गये नाबालिक बच्चों को छुड़ाया,दो दिन बाद पहुचेंगे जशपुर…

जशपुर । हरियाणा युवा कांग्रेस की मदद से बुधवार को जशपुर जिले के बगीचा ब्लॉक के कुटमा पंचायत के दो आदिवासी नाबालिक बच्चों को हरियाणा के सोहना से छुड़ाया गया है। उधर वह ढाबे में काम करते थे।

जानकारी के अनुसार बच्चों के परिजनों ने ज़ब इन्हें वापस गांव बुलाया। बच्चो ने यह बात ढाबा मालिक को बताया । मलिक ने कई दिनों तक बात को टाल दिया और पैसे भी नहीं दिए। बच्चे ज़ब घर आने के लिए परेशान होने लगे तब परिजनों ने स्थानीय जनप्रतिनिधियों से मदद की गुहार लगाई।

बच्चों के परिजनों ने क्षेत्रीय जनपद सदस्य व कांग्रेस युवा नेत्री आशिका कुजूर से मुलाक़ात कर सारी बात बताई। परिजनों ने शुरूवात में ज़ब दिल्ली ले जाने की बात कही तो आशिका ने युवा कांग्रेस और दिल्ली पुलिस की मदद ली। लेकिन एक दिन बाद मालूम हुआ कि बच्चे दिल्ली नहीं हरियाणा प्रदेश में काम कर रहें हैँ तभी पुनः हरियाणा युवा कांग्रेस की मदद ली गई। परिजनों द्वारा सूचना मिलने के 48 घंटे में ही आशिका की तत्परता एवं युवा कांग्रेस के साथियों की मदद से बंधक बनाये गए बच्चों को सकुशल छुड़ाया गया। एवं ढाबा मालिक से दोनों बच्चों का मेहनताना 25 हज़ार एवं 16 हज़ार भी दिलवाया गया।

हरियाणा युवा कांग्रेस के द्वारा बच्चों को उनके गांव भेजनें की व्यवस्था भी की जा रही है। दो दिन बाद वे अपने घर पहुंच जायेंगे। यह खबर मिलते ही परिजनों की ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा।

इस दौरान युवा कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कोको पाढ़ी एवं पूर्व एनएसयूआई अध्यक्ष एवं क्षेत्रीय जनपद सदस्य लगातर सम्पर्क करने में लगे हुए थे।बता दें कि जशपुर जिले में पलायन की समस्या लम्बे समय से चली आ रही है। रोजगार के अभाव में जिले के युवा अन्य प्रदेशों में काम करने चले जाते हैँ और फिर प्रताड़ना का शिकार होते रहें हैँ।

आशिका ने बताया कि जिले के युवाओं को क्षेत्रीय स्तर पर रोजगार दिलाने के लिये कौशल विकास प्रशिक्षण से प्रशिक्षित करने का प्रयास किया जा रहा। छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा लागू की गई योजनाओं का क्रियान्वयन कर जिला प्रशासन एवं जनसहयोग के माध्यम से पलायन की समस्या को दूर किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *