चेक डेम अनियमितता की जाँच कछुआ चाल से , दोषियों को बचाने में जुटा प्रशासन

छत्तीसगढ़

धमतरी।मगरलोड ।रिपोर्टर-योगेंद्र साहू

मगरलोड । भाजपा शासन काल मे हरित क्रांति विस्तार योजना के तहत भूमि सरक्षण विभाग धमतरी द्वारा सन 2016 – 17 में मगरलोड विकासखंड के ग्राम पंचायत बिरझुली के आश्रित गाँव कमारिनमुड़ा (कुसुमखुटा ) में किसानों को पानी की सुविधा मिले इसलिये पनखट्टी नाला में 14.99 लाख रूपये का चेक डेम का निर्माण करवाया गया था । चेक डेम निर्माण में जमकर अनियमितता बरती गई थी . चेक डेम में घटिया साम्रगी का उपयोग करने से दो वर्ष में ही चेक डेम टूट गया था । निर्माण कार्य के दौरान अधिकारियों ने गुणवत्ता पर ध्यान नही दिया .जिसके चलते अनियमितता की पोल दो वर्ष में ही खुल गई । किसानों ने बताया था कि चेक डेम निर्माण में कमीशन का खेल हुआ था . चेक डेम टूट जाने से लगभग गांव के 35 एकड़ खेतों में सिचाई के लिये पानी नही मिला। किसान सोमकुमार ध्रुव , गौतम ध्रुव , महेश्वर ध्रुव , देवेंद्र नेताम सहित कई ग्रमीणों ने कलेक्टर से चेक डेम अनियमितता की जाँच और भूमि सरक्षण विभाग के दोषी अधिकारियों के ऊपर कड़ी कार्यवाही शिकायत की गई थी । कलेक्टर ने मामले को सज्ञांन लेते हुये जाँच टीम गठित की गई है लेकिन चार सप्ताह बीत जाने के बाद भी चेक डेम अनिमियतता की जाँच कछुआ चाल से चल रहा है । जिससे यही अंदाजा लगाया जा सकता है कि जांच टीम द्वारा दोषियों को बचाने की प्रयास की जा रही है । ग्रमीणों ने यह कहा कि जिला प्रशासन से चेक डेम की जाँच में समय समय बनाकर टाल रहे है इससे भूमि सरक्षण विभाग के दोषी अधिकारियों को बचाने की कोशिश की जा रही है । चेक डेम की अनिमियतता जाँच में देरी का क्या कारण है संदेह हो रहा है । अब इनकी ईओडब्ल्यू से करेंगे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *