चरामेति फाउंडेशन ने बच्चों को बाटे समान 

छत्तीसगढ़

रायपुर। संस्कार भारती द्वारा संचालित 'मातृछाया' एक ऐसा संस्थान है,जहाँ बाल कल्याण समिति द्वारा प्रदत्त 0 वर्ष से 06 तक के बच्चों का लालन-पालन किया जाता है। 11-07-2006 से स्थापित इस संस्था के माध्यम से अब तक 150 से ज्यादा बच्चे गोद दिए जा चूके हैं एवं लगभग इतने ही बच्चों को उनके पालकों की खोज बीन कर उन्हें पुनः सौंप दिया गया है। वर्तमान में इस संस्थान में 13 बच्चे पल बढ रहे हैं, जिनमें नवजात से लेकर छः माह तक के चार एवं शेष कुछ बड़े हैं । चरामेति फाउंडेशन के महासचिव राजेंद्र ओझा ने एक विज्ञप्ति में बताया कि इन बच्चों के लिए संस्था के द्वारा 16 जोड़ी नये टी शर्ट एवं हाफ पेंट, 100 डायपर, फेरेक्स 03 डिब्बे, डाबर लाल तेल 02 शिशि, बिस्कुट 30 पैकेट, जोन्सन बेबी पावडर एवं साबुन 08 नग के साथ अनेक नये खिलौने प्रदान किये गये। मातृछाया संस्थान की प्रबंधक श्रीमती राजकुमारी दीवान ने चरामेति फाउंडेशन के प्रति आभार व्यक्त किया। उन्होंने यह भी बताया कि मुम्बई के श्री भरत भाई रावरिया (विनीत अपेरल), एवं श्री मूलचंद भाई डेढिया (सांताक्लास) के द्वारा चरामेति फाउंडेशन को 0 से लेकर 05 वर्ष तक के बच्चों के लिए करीब 200 जोड़ी टी शर्ट एवं हाफ पेंट प्राप्त हुए हैं जो कि भविष्य में आस पास के गावों में छोटे बच्चों को वितरित किये जायेंगे। उपरोक्त कार्यक्रम सर्व श्री के एल साहेब, रामानुज भाई पुरोहित, के एस अरोरा, एस के तिवारी, पी वी एस नागेश, जोगेन्दर कुमार (दिल्ली) के कृष्ण मूर्ति कासी, डॉ मृणालिका ओझा, दीपक पात्रिकर, सुधीर शर्मा, दामुजी वी जगनमोहन, नितिन जैन, नैमीचंद वर्मा, चतर सिंह सलूजा, अभिषेक गांधी आदि के सहयोग एवं उपस्थिति में संपन्न हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *