युवावों को स्वयं का व्यवसाय स्थापित करने का सुनहरा अवसर

छत्तीसगढ़

रायपुर।जिले के तिल्दा विकासखण्ड के ग्राम बोईरझिटीे निवासी श्री कमल कुमार बंजारे अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद स्वयं का व्यवसाय स्थापित करने के लिए प्रयासरत था। इसके पूर्व वह दूसरे की दुकान में कम्प्यूटर सीखने के साथ-साथ उस दुकान में काम भी करता था। इस काम से उसे निश्चित आय हो जाता था किन्तु वह इससे संतुष्ट नहीं था। स्वयं का व्यवसाय स्थापित करने के लिए जिला अंत्यावसायी द्वारा अनुसूचित जातियों के लिए चलायी जा रही ऋण योजना के बारे में उसे पूर्व में लाभ ले चुके परिजनों ने अवगत कराया। कमल ने जिला अंत्यावसायी विभाग में संपर्क कर योजना के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी ली। जिसके बाद विभाग के नियमानुसार उसने आवेदन एवं दस्तावेज प्रस्तुत किया जिसके उपरांत लघु व्यवसाय योजनान्तर्गत उसे अनुसूचित जाति लघु व्यवसाय योजना के अंतर्गत 3 लाख रूपये 6 प्रतिशत रियायती ब्याज दर पर ऋण प्राप्त हुआ।
ऋण प्राप्ति के पश्चात् कमल ने तिल्दा शहर के मुख्य स्थान पर छोटा सा किराया का दुकान लेकर कम्प्यूटर एवं स्टेशनरी शॉप का काम शुरू किया साथ ही कियोस्क बैंक का भी संचालन करना प्रारंभ किया। कमल के परिवार में बुजुर्ग माता-पिता के साथ एक बड़ा भाई है। इस व्यवसाय के माध्यम से कमल के परिवार का जीवन स्तर अच्छे से चल रहा है तथा अपने माता-पिता का देख-भाल अच्छी तरह से कर पा रहा है। इस दौरान उसने प्रतिमाह निर्धारित किश्त की राशि 5 हजार 6 सौ रूपये नियमित रूप से जमा कर रहा है। इस व्यवसाय से वह समस्त खर्च काटकर प्रतिमाह लगभग 10 हजार रूपये की आय प्राप्त कर लेता है। अब स्वयं का शॉप प्रारम्भ करने से उसके परिवार की आर्थिक स्थिति मजबूत हुई है एवं समाज में मान-सम्मान भी बढ़ा है। शासन की ऐसी योजनाओं से बेरोजगार युवाओं को स्वयं का व्यवसाय स्थापित कर आर्थिक स्थिति सुधार करने का अवसर प्राप्त होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *