कवर्धा से दो बच्चों को इटली की दंपत्ति ने गोद लिया

छत्तीसगढ़


कवर्धा। महिला एवं बाल विकास विभाग की एकीकृत बाल संरक्षण योजना के तहत मान्यता प्राप्त स्वयं सेवी संस्था स्नेह सर्वोदय सेवा संस्था राजनांदगांव द्वारा जिला मुख्यालय कवर्धा में विशेषीकृत दत्तक ग्रहण अभिकरण का संचालन किया जा रहा है। इस अभिकरण से गत दिवस दो बच्चों को इटली की विदेशी दंपत्ति ने गोद लिया। इस अभिकरण द्वारा पिछले पांच वर्षो में देश-विदेश की 18 नि:संतान दंपत्तियों बच्चों को गोद लेकर अपनी सुनी गोद आबाद किया है।
जिला बाल संरक्षण अधिकारी सत्यनारायण राठौर ने बताया कि विदेशी दम्पत्तियों द्वारा भारतीय बच्चों को गोद लेने के लिए अधिकृत विदेशी दत्तक ग्रहण अभिकरण (आफा) और केन्द्रीय दत्तक ग्रहण संसाधन प्राधिकारण (कारा) के माध्यम से ऑनलाईन पंजीयन कर दत्तक में लिया जाता है। इसके लिये भावी दत्तक दम्पत्ति को अपनी सम्मपूर्ण जनकारी फोटो, आयु, स्वास्थ्य, आय, विवाह, निवास का सबूत, वचन पत्र, पुलिस सत्यापन संबंधित प्रमाण पत्र एवं अन्य आवश्यक दस्तावेज अपलोड किया जाना होता है। नि:संतान दम्पत्तिओं द्वारा प्रस्तुत दस्तावेजों एवं गृह अध्ययन रिर्पोट के सत्यापन किया जाता है। अंतर्राष्ट्रीय दत्तक ग्रहण के लिये दत्तक ग्रहण अभिसमय के अनुच्छेद 5-17 के अनुसार प्राप्तकर्ता एवं प्रदायकर्ता दोनो देशों की अनुमति आवश्यक होता है। दत्तक ग्रहण के लिए वेबसाईट कारा डॉट एनआईसी डॉट इन पर ऑनलाईन पंजीयन करा सकते हैं। श्री राठौर ने बताया कि इन दोनो बच्चों को बाल कल्याण समिति बेमेतरा द्वारा विशेषीकृत दत्तक ग्रहण अभिकरण एवं बाल गृह कवर्धा भेजा गया था। इसके बाद दत्तक ग्रहण के लिए लीगल फ्री करने की प्रक्रिया पूरी की गई। खुशी की बात रही कि करीब 18 माह बाद भारत सरकार के दत्तक ग्रहण योजना के तहत ईटली में रहने वाले विदेशी दम्पति ने दोनों बच्चों को गोद लेने की इच्छा जताई और सारी प्रक्रिया पूरी होने के बाद आज इस परिवार को उन्हें सौप दिया गया। दोनो बच्चें भाई-बहन है और अलग-अलग संस्थाओं में रह रहे थे। बालक का उम्र 10 वर्ष और बालिका का उम्र छह वर्ष है। इस अवसर पर महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारी-कर्मचारी, विदेशी दम्पत्ति, संस्था के अध्यक्ष एस.एम. शास्त्री, वकील और डॉक्टर उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *