पावस ऋतु के सांगीतिक बैठक में हुवा विभिन्न सांगीतिक आयोजन

छत्तीसगढ़

रायपुर।गुनरस पिया फाउंडेशन की पावस ऋतु पर मासिक सांगीतिक बैठक रविवार को प्रज्योत देवास्कर के निवास में आयोजित किया गया। जिसकी थींम पावस ऋतु होने के कारण सभी ने वर्षा ऋतु के राग जैसे मियां मल्हार ,सूर मल्हार और कजरी,झूला आदि प्रस्तुत किया।
सर्वप्रथम दीप प्रज्जवलन के बाद सदस्यों द्वारा गुरु वन्दना गाई गई। उसके बाद एक के बाद सुंदर सुरीली प्रस्तुतियो से देर रात तक श्रोतागण झूमते रहे और बाहर रिमझिम बरसात होती रही।


सभा मे ,गार्गी काले ने राग मल्हार में नाद ब्रह्म परमेश्वर , निर्झर चांडक ने, राग देस में ठुमरी, उमड़ घुमड़ कर,आरना देवास्कर ने राग बागेश्री में छोटा ख्याल,कावेरी व्यास ने राग वृन्दावनी सारंग में आँखिया लागे प्यारी, दिव्यांश व्यास ने आओगे जब तुम सजना, रचना चांडक ने राग देस में ठुमरी आई ऋतु सावन की, प्रज्ञा त्रिवेदी ने कजरी, झमकि झुकि आई बदरिया कारी, श्रीवल्ली ने मेघा छाए कारे कारे, मनीषा त्रिवेदी ने, राग मिया मल्हार में सितार वादन ,आलोक त्रिवेदी ने ज़िंदगी भर नही भूलेगी, दीपक व्यास ने राग मिया मल्हार में ग़ज़ल ,एक बस तू ही नही है,शुभ्रा ठाकुर ने पण्डित गुणवन्त व्यास की कम्पोज़िशन ,बादलों का कारवां आता हुआ अच्छा लगा, अतीक उर रहमान ने , रिमझिम गिरे सावन, जयश्री साकल्ले ने, ओ सजना बरखा बहार आई, बसन्त सोनी ने, गरज बरस प्यासी धरती को फिर पानी दे मौला,युक्ता द्वारा बदरा उमड़ो आज, लीला दास द्वारा सावन आयो री सखी,नीलिमा मिश्रा द्वारा कजरी, नही आये सजना हमार, हेमल शाह द्वारा ,अबके सजन सावन में,अर्चिता द्वारा ,जमुना किनारे मेरो गांव, मोनिका द्वारा ,आजा रे आजा मेरे सजना,दीपक हटवार ने राग दुर्गा में, माता भवानीआली , मनीषा द्वारा ,मैं वारी जाऊं रे, अरविंद ठाकुर ने, मेरे नैन सावन भादो, अंजू शितुत द्वारा जमुना किनारे, प्रज्योत देवास्कर द्वारा राग मल्हार में घुमड़ आये बदरा, विवेक शर्मा ने, तूने राम जपन क्यों छोड़ दिया, सावन आया रिमझिम रिमझिम संजय कश्यप द्वारा प्रस्तुत किया।
तबले पर ओम प्रकाश भोई, गिरीश काले, नारायण ठाकुर, जयंत चौहान, त्रिलोचन सोना थे, हार्मोनियोम पर दीपक व्यास थे।
दीपक व्यास ने बताया कि पावस पर बैठक करीब तीस वर्षों से अनवरत की जा रही है। हर ख़ास प्रसङ्ग पर उस से सम्बंधित सांगीतिक बैठक हमारी पुरानी परंपरा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *