कैबिनेट की बैठक में लेमरु हाथी रिजर्व की घोषणा, अब कम होगा हाथियों का आतंक

छत्तीसगढ़ राजनिति

रायपुर. भूपेश कैबिनेट की बैठक में लेमरू हाथी रिजर्व की घोषणा कर दी गई है. लेमरू एलीफेंट रिजर्व में हाथियों को स्थानांतरित किया जाएगा. जिससे छत्तीसगढ़ में हाथियों का आतंक कम होगा. लेमरू हाथी रिजर्व हाथियों की सुरक्षा और संवर्धन हेतु वन्यजीवों का प्राकृतिक निवास होगा.

 छत्तीसगढ़ सरकार ने लंबे समय से प्रतीक्षित मांग को पूरा करते हुए हाथियों के आतंक से ग्रसित क्षेत्रों की आबादी को बड़ी राहत मिली है. 73वे स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर छत्तीसगढ़ राज्य के मुख्यमंत्री ने की घोषणा की थी, जिसे आज कैबिनेट ने पास कर दिया. अब राज्य में लेमरु हाथी रिजर्व का गठन होगा. देश में अपने तरह का पहला प्रोजेक्ट है.

लेमरु हाथी रिजर्व के निर्माण से जंगली हाथियों द्वारा होने वाली जान-माल की हानि में कमी आएगी. वन्यजीवों के संरक्षण और जैव विविधता के संवर्धन का दायरा बढ़ेगा. लेमरु हाथी रिजर्व का निर्माण स्पेशल हाई पावर टेक्निकल कमेटी (SHPTC) द्वारा प्रदत्त सूचनाओं और सुझावों के आधार पर किया जाएगा.

कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर, 5 अक्टूबर, 2007 को भारत सरकार ने 1995.48 वर्ग कि.मी. वन्य क्षेत्र में लेमरु हाथी रिजर्व निर्माण की अनुमति दी थी. छत्तीसगढ़ राज्य के कोरबा, कटघोरा और धरमजयगढ़ का वन मण्डल लेमरु हाथी रिजर्व के अंतर्गत शामिल होगा.

मानव और हाथियों के बीच का सौहार्दपूर्ण सहनिवास इस क्षेत्र में पर्यटन की संभावनाओं को बढ़ावा देगा. पिछले 5 वर्षों में हाथियों और मानवों के संघर्ष में 65 व्यक्तियों और 14 हाथियों की मृत्यु हो गयी थी. पिछले 5 वर्षों में, मानव मृत्यु, खेती-बाड़ी में नुकसान, क्षतिग्रस्त मकानों आदि की क्षतिपूर्ति के रूप में राज्य सरकार ने 75 करोड़ रुपयों का अनुदान दिया. राज्य में वन्यजीवों हेतु 11310.977 वर्ग कि.मी. क्षेत्र संरक्षित है जो छत्तीसगढ़ राज्य के भौगोलिक परिक्षेत्र का 8.36 प्रतिशत है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *