कोई भी इंसान धन-धान्य से नहीं, अपने आचार-व्यवहार से बड़ा होता है : राज्यपाल

छत्तीसगढ़

रायपुर।राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके ने कहा कि कोई भी इंसान धनधान्य से बड़ा नहीं होता बल्कि वह आचार-व्यवहार से बड़ा होता है और अपने कर्म से ही उसकी पहचान बनती है, उसे ही समाज में हमेशा याद किया जाता है। यह बात राज्यपाल सुश्री उइके ने आज यहां राजभवन में भारत स्काउट्स एवं गाइड्स के स्थापना दिवस के अवसर पर कैडेट्स को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने उपस्थित पदाधिकारी एवं सभी कैडेट्स को बधाई एवं शुभकामनाएं दी। राज्यपाल को कैडेट्स ने स्थापना दिवस का स्टीकर लगाया और उन्हें बैच लगाकर अपना संरक्षक मनोनित किया। राज्यपाल ने कहा कि यह बहुत अच्छी बात है कि यहां के कैडेट्स ने राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त किया है, जिसके लिए वे बधाई के पात्र है। मैं कामना करती हूं कि वे सदैव इसी तरह तरक्की करते रहें।
सुश्री उइके ने कहा कि स्काउट्स-गाईड्स, एन.एस.एस. जैसे कार्यों में वही लोग आते हैं जिनके मन में स्वयंसेवक के रूप में समाज सेवा करने की भावना होती है और वही व्यक्ति राष्ट्र निर्माण में भागीदारी निभाता है। मैं जब विधायक थी, तो मैंने स्काउट्स एवं गाईड्स के उपाध्यक्ष के पद का दायित्व संभाला था तब मुझे भी इस बा त का अहसास हुआ। उन्होंने कहा कि स्काउट्स और गाईड्स में हमें छोटे-बड़े का भेदभाव मिटाने की सीख मिलती है। यही भावना युवाओं को जीवन में कुछ करने की प्रेरणा देती है और राष्ट्र के प्रति समर्पण की भावना जागृत करती है। राज्यपाल ने अपने पुराने अनुभव बताते हुए कहा कि जब मैं कॉलेज में शिक्षक के तौर पर नियुक्त हुई तो विद्यार्थियों को साफ-सफाई करने को कहा। पहले वे तैयार नहीं हुए, तो मैं स्वयं साफ-सफाई करने में लग गई। इससे विद्यार्थी प्रेरित हुए और मेरे साथ परिसर में साफ-सफाई करने लगे।
इस अवसर पर विधायक एवं राज्य मुख्य आयुक्त श्री विनोद चन्द्राकर ने कहा कि प्रतिवर्ष 07 नवंबर को भारत स्काउट्स एवं गाइड्स अपना स्थापना दिवस मनाता है। यह समाज सेवा के क्षेत्र में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। इस अवसर पर राज्यपाल के सचिव श्री सोनमणि बोरा, राष्ट्रीय मुख्यालय आयुक्त श्री जी. स्वामी, राज्य सचिव श्री कैलाश सोनी सहित स्काउट्स एवं गाइड्स के कैडेट्स उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *