शिक्षा के साथ-साथ संस्कार जरूरी: श्री भूपेश बघेल

एजुकेशन

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल शुक्रवार को आर.के. सारडा विद्या मंदिर स्कूल के 10वें वार्षिकोत्सव में शामिल हुए। उन्होंने समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि अच्छा नागरिक बनने के लिए शिक्षा के साथ संस्कार जरूरी है। योग के निरंतर अभ्यास से तन और मन स्वस्थ्य रहने के साथ ही मनोबल भी कमजोर नहीं होता। उन्होंने इस अवसर पर विद्यालय के उत्कृष्ट विद्यार्थियों को जीवन के हर क्षेत्र में आगे बढ़ने और प्रदेश और देश का नाम रौशन करने के लिए बधाई और शुभकामनाएं दी। श्री बघेल ने कहा कि विद्यालय के विद्यार्थियों ने 10 वर्षों में शिक्षा, विज्ञान, कला, खेल के क्षेत्र में देश-विदेश में नाम रौशन किया है। संस्था द्वारा विद्यालय में बच्चों को शिक्षा के साथ-साथ अपनी संस्कृति और सभ्यता से जुड़ने का संस्कार भी दिया जा रहा है, इसके लिए संस्था से जुड़े सभी लोग बधाई के पात्र हैं।

समारोह में श्री बघेल ने स्कूली बच्चों द्वारा प्रस्तुत महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर स्वतंत्रता आन्दोलन में भूमिका का नाट्य रूपांतरण में जलिया वाला बाग की मार्मिक घटना के चित्रण की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि भारतीय स्वतंत्रता के आन्दोलन में जलियावाला बाग की घटना निर्णायक मोड़ थी, इसके बाद महात्मा गांधी ने स्वदेशी आन्दोलन, असहयोग आंदोलन, और अंग्रेजों भारत छोड़ो आंदोलन चलाया। श्री बघेल ने कहा कि योग के प्रस्तुतिकरण को देखकर उन्हें अपना बचपन याद आ गया। उन्होंने कहा कि योग के लिए वे भी कठिन अभ्यास करते थे। अभ्यास के दौरान उन्हें अपने गुरूजनों से कई बार डाट भी पड़ती थी। श्री बघेल ने बच्चों से कहा कि योग के लिए निरंतर अभ्यास जरूरी है।
मुख्यमंत्री श्री बघेल ने बच्चों द्वारा बनाई गई आर्ट गैलरी का भी अवलोकन किया। समारोह में उन्होंने विद्यालय के उत्कृष्ठ विद्यार्थियों को प्रतीक चिन्ह और प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया। इस अवसर पर विधायक श्री सत्यनारायण शर्मा, स्कूल के संस्थापक श्री कमल सारडा, चेयरमैन श्री पंकज सारडा, पूर्व आईएएस अधिकारी श्री सुशील त्रिवेदी, संस्था के सचिव ओ.पी. सिंघानिया, विद्यालय के प्राचार्य, शिक्षक, छात्र-छात्राएं और पालकगण उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *