जीवन का दिग्दर्शन है भगवद्गीता-स्वामी सच्चिदानंद तीर्थ

छत्तीसगढ़

रायपुर।छत्तीसगढ़ संस्कृत विद्यामण्डलम् और श्री विद्यावेद संस्कृत पाठशाला खम्हारडीह जिला मुंगेली के संयुक्त तत्वाधान में श्री चक्र महामेरू पीठम् खम्हारडीह आश्रम में गीता जयंती का आयोजन उल्लास पूर्वक किया गया। इस अवसर पर स्वामी सच्चिदानंद तीर्थ पीठाधीश श्री चक्र महामेरू पीठम् ने कहा कि श्रीमदभगवद्गीता भारत की अमूल्य धरोहर है। इसमें जीवन को सफल बनाने की शिक्षा समाहित है।
गोष्ठी में अपने विचार व्यक्त करते हुए छत्तीसगढ़ संस्कृत विद्यामण्डलम् के सचिव डॉ. सुरेश कुमार शर्मा ने श्रीमदभगवद्गीता के संबंध में विस्तार पूर्वक चर्चा की। संस्कृति विद्यालय के विद्यार्थियों द्वारा सामूहिक रूप से श्रीमदभगवद्गीता के पन्द्रहवें अध्याय का पाठ किया। भगवद्गीता के बारे में विद्यार्थियों को अच्छे कर्म करने बताया गया। स्वामी सच्चिदानंद तीर्थ पीठाधीश श्री चक्र महामेरू पीठम् और छत्तीसगढ़ संस्कृत विद्यामण्डलम् के सचिव डॉ. सुरेश कुमार शर्मा ने दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। कार्यक्रम का संचालन और आभार प्रदर्शन संस्कृत विद्यामण्डलम् के सहायक संचालक श्री लक्ष्मण प्रसाद साहू तथा संयोजन सहायक संचालक श्रीमती पूर्णिमा पाण्डेय और व्याख्याता श्रीमती आशा रानी चतुर्वेदी ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *